CANCEL PRACTICE LICENSE OF ADVOCATES OPPOSED ARREST OF KATHUA RAPE CULPRITS

0 व्यक्ति ने साइन किए। 100 हस्ताक्षर जुटाएं!


माननीय सुप्रिम कोर्ट,
आपने जम्मू बार एसोशियन को जम्मू नाबालिग के केस में न्याय की राह में रोडा न बनने की सलाह दी बहुत अछछा किया पर जो वकील ब्लातकारीयों के समर्थन में खडे थे उन्है सजा कौन देगा यह नही बताया। उनका वकालात लाईसेंस कौन रद्ध करेगा,यदी यह भी आप ही कर देते तो न्याय जिंदा होने का एक सबूत तो और मिलता।
अपराधी वकीलों को सजा मिलनी चाहिये

प्रार्थी
एक सामान्य नागरिक
��