Sushma Swaraj, please don’t attend the canonization ceremony in the Vatican

For regional language translations and list of sponsors of the following petition, please scroll down. इस अनुरोध को देशीयभाषाओँ मेँ पढने के लिये और प्रमुखसमर्थकोँ के नाम देखने हेतु स्क्रोल् कीजिये ।

Mother Teresa, Hell's angel (Christopher Hitchens): https://www.youtube.com/embed/65JxnUW7Wk4

Sushma Swaraj, please don’t attend the canonization ceremony in the Vatican
We, the concerned citizens of this sovereign, socialist, democratic and secular republic of India request you to reconsider your decision to visit the Vatican city to attend the canonization of Mother Teresa in view of the following:

1. We don’t understand the need for the foreign minister of a secular country to attend a religious function viz. the canonization of Mother Teresa. We are especially concerned about the message being sent out by the visit.

2. The canonization is based upon “miracles” that Anjezë Gonxhe Bojaxhiu a.k.a. Mother Teresa is supposed to have performed. It boggles the mind that the foreign minister of a country whose constitution exhorts its citizens to have scientific temper would approve of a canonization based on “miracles”. If, by your visit, you give official legitimacy to the “miracle”1 (a case where a tumour patient was cured of it because of her prayer to Mother Teresa), will you consider recommending to the Medical Council of India the best line of treatment of tumours viz. praying to Mother Teresa?

3. Mother Teresa used to allow people under her care to suffer untold misery with a view of expiating their sins as per the Christian dogma.2 She did this even when her organization was flush with funds and could easily alleviate their sufferings. Furthermore, she supported or had the support of questionable figures such as the dictators of Haiti and Albania, fraudsters (Charles Keating convicted in US and who gave her a large amount of funds), or anyone who would support her activism against abortion, a key Catholic Church issue, and that occupied close to half her time abroad from the 70s. For such a person to be declared a saint at all is preposterous. But then, this is the belief of the Catholic Church. For India’s foreign minister to be legitimizing such beliefs by attending her canonization is improper and sends a wrong message to the world.

4. The question of her duplicity in her own preference for clinics in California to suffering in Calcutta is something which hasn’t been questioned enough by the miracle loving media in India.

5. The earlier Pope, John Paul II, had declared “May the third Christian Millennium witness a great harvest of faith on this vast and vital continent.” We don’t know if you realize that your proposed visit will legitimize and prove to be a fillip to the efforts of the Christian Church in its goal of the Christianization of India. Whether a foreign minister of a secular country should be promoting such a goal willy-nilly is something for you to seriously ponder.

References:
1. C.Hitchens, “Mommie dearest”, http://www.slate.com/articles/news_and_politics/fighting_words/2003/10/mommie_dearest.html (last accessed 31 Jul 2016)

2. A.Chaterjee, “Mother Teresa, the final verdict”, Meteor books, first reprint edition, February 2003, Kolkata, pp. 179–224.

Petition Sponsors:

Bharat Gupt,
Former Assoc-Prof,Delhi Univ.
bharatgupt[AT]vsnl[DOT]com

R. Ganesh,
Sanskrit Scholar, Bangalore.
avadhaniganesh[AT]gmail[DOT]com

Radha Rajan,
Political analyst,Chennai.
radharajan7[AT]gmail[DOT]com

B.R.Haran,
Journalist,Chennai.
brharan[AT]gmail[DOT]com

Jay Bhattacharjee,
Columnist,NewDelhi.
jay[DOT]bhattacharjee[AT]gmail[DOT]com

R.Vaidyanathan,
Professor,IIMB.
rvaidya2000[AT]gmail[DOT]com

P.Ramanujan,
Associate Director,CDAC,Bangalore.
rama[AT]cdac[DOT]in

Shrinivasa Varakhedi,
Educationist,Bangalore.
shrivara[AT]gmail[DOT]com

Veeranarayana Pandurangi,
Dean,KSU,Bangalore.
veerankp[AT]gmail[DOT]com

JSR.Prasad,
Professor,Univ Hyderabad.
jsraprasad[AT]gmail[DOT]com

K.Gopinath,
Professor,CSA,IISC,Bangalore.
gopi[AT]csa[DOT]iisc[DOT]ernet[DOT]in

Rajaram Venkataramani
Social-worker, UK.
rajaramvenk [AT] gmail [DOT] com

Shridharan MK
Social-worker,Bangalore.
shridharan[AT]gmail[DOT]com

Pankaj Sahay
Social-worker,Mumbai.
pansahay[AT]gmail[DOT]com

Shrivathsa. B.,
Social-worker,Bangalore.
shrivathsa[DOT]brahma[AT]gmail[DOT]com

आदरणीय सुषमा स्वराज, कृपया वेटिकन के कैननैज़ेषन समारोह में सम्मिलित न हो
हम संप्रभु समाजवादी, लोकतांत्रिक और धर्मनिरपेक्ष भारत गणराज्य के नागरिक आपसे अनुरोध करते हैं की आप टेरेसा के "कैननैज़ेषन" में भाग लेने के लिए अपनी वेटिकन सिटी की यात्रा करने के निर्णय पर पुनर्विचार करें । इस सम्बन्ध में कुछ विचार निम्नलिखित हैं –

1. एक धर्मनिरपेक्ष देश के विदेश मंत्री का एक धार्मिक समारोह "टेरेसा के केननिज़ेषन" में भाग लेने का औचित्य क्या है ।
2. कैननैज़ेषन का आधार "Anjezë Gonxhe Bojaxhiu"(सुश्री टेरेसा) के द्वारा किये गए तथाकथित चमत्कार हैं । यह अत्यधिक विचित्र है की भारत देश की विदेश मंत्री, वह देश जो अपने नागरिकों को वैज्ञानिक सोच और विज्ञान के प्रति आस्था के लिए प्रेरित करता है, कैननैज़ेषन (जो चमत्कार पर आधारित है) को स्वीकृति देती हैं । अगर आप अपनी यात्रा से चमत्कार को स्वीकृति देती हैं तो क्या आप मेडिकल कौंसिल ऑफ़ इंडिया को सलाह देंगी की Brain Tumor का शर्तिया इलाज टेरेसाजी की प्रार्थना है । ऐसा इसलिए क्योंकि इस चमतकार के अंतर्गत एक ऐसा प्रकरण भी है जहाँ Brain Tumor से पीड़ित व्यक्ति सुश्री टेरेसा की प्रार्थना करके अपने रोग से मुक्त हो गयी।1
3. सुश्री टेरेसा ने अपनी देख रेख में रहे कई लोगों को अत्यधिक दुखी जीवन यापन करने दिया क्योंकि ईसाई धर्मान्धता में कष्ट वहन परिहार का मार्ग है 2। यह विडम्बना ही है की इस दौरान उनके न्यास के पास बहुत धन था और चंद लगातार आ रहा था । इसके अतिरिक्त उन्होंने तानाशाहों और धोखेबाजो का समर्थन किया या समर्थन लिया । इनमे हैटि (Haiti) और अल्बेनिया (Albania) के तानाशाह, धोकेबाज चार्ल्स् कीटिंग् जो की USA में दोषी करार दिया गया हैं (इसने बहुत बड़ी राशि सुश्री टेरेसा के न्यास को दी थी ) । इसके आलावा इन्होंने ऐसे किसी भी मनुष्य का साथ दिया जो (ईसाई चर्च के प्रमुख मुद्दा) गर्भपात के खिलाफ था । इस प्रकार के विचार वाले किसी भी मानुष को संत की उपाधि देना निरर्थक है । भारत देश के विदेश मंत्री का कैननैज़ेषन समारोह में सम्मिलित हो कर इस तरह की मान्यताओं को वैधता प्रदान करना अनैतिक है ।
4. एक घोर अंतर्विरोध इस घटना से विदित है की जब सुश्री टेरेसा स्वयं बीमार थी तो उनका विश्वास कैलिफ़ोर्निया के चिकित्सायालयों में था न की प्रार्थना में जो वो अपने समर्थकों को प्रचारित करती रहती थी ।
5. पूर्व पोप John Paul ने घोषित किया है की तीसरी ईसाई सहस्राब्दी इस विशाल और महत्वपूर्ण महाद्वीप पर विश्वास की एक महान फसल की गवाह हो । हमें यह ज्ञात नहीं की आपको इस बात का आभास है की आपकी यह यात्रा ईसाई चर्च के भारत के ईसाईकरण के प्रयासों को वैधता एवं प्रोत्साहन प्रदान करेगी । यह आपके लिए ज्वलंत प्रश्न है की क्या एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र की विदेश मंत्री को इस तरह के लक्ष्य को बढ़ावा देना चाहिए ।
उल्लेख -
1. C.Hitchens, “Mommie dearest”, http://www.slate.com/articles/news_and_politics/fighting_words/2003/10/mommie_dearest.html
2. A.Chaterjee, “Mother Teresa, the final verdict”, Meteor books, first reprint edition, Feb.2003, Kolkata, pp. 179–224.
 

ಶ್ರೀಮತಿ ಸುಷ್ಮಾ ಸ್ವರಾಜ್, ದಯವಿಟ್ಟು ವ್ಯಾಟಿಕನ್ ನಗರದಲ್ಲಿ ನಡೆಯುವ ಕ್ಯಾನನೈಜೇಶನ್ ಸಮಾರಂಭಕ್ಕೆ ಹೋಗಬೇಡಿ
ನಾವು, ಸ್ವಾಯುತ್ತ-ಸಮಾಜವಾದಿ-ಪ್ರಜಾಸತ್ತಾತ್ಮಕ-ಮತನಿರಪೇಕ್ಷ ಭಾರತದ ಆತಂಕಿತ ಪ್ರಜೆಗಳು, ತಾವು ವ್ಯಾಟಿಕನ್ ನಗರಕ್ಕೆ ತೆರಳಿ ತೆರೆಸಾರನ್ನು ಕ್ರೈಸ್ತ ಮತೀಯರ ಆದರ್ಶ ಎಂದು ಘೋಷಿಸುವ ‘ಕ್ಯಾನನೈಜೇಶನ್’ ಸಮಾರಂಭದಲ್ಲಿ ಭಾಗವಹಿಸುವ ನಿರ್ಧಾರವನ್ನು ಕೆಳಗಿನ ಅಂಶಗಳ ಆಧಾರದ ಮೇಲೆ ಮತ್ತೊಮ್ಮೆ ಪರಿಶೀಲಿಸಲು ಕೋರುತ್ತೇವೆ.

1. ಮತ ನಿರಪೇಕ್ಷತೆ ಪಾಲಿಸುತ್ತಿರುವ ಭಾರತದ ವಿದೇಶಾಂಗ ಮಂತ್ರಿಗಳು ವಿದೇಶಿ ನೆಲದಲ್ಲಿ ಮತೀಯ ಕಾರ್ಯಕ್ರಮದಲ್ಲಿ (ತೆರೆಸಾರ-ಕ್ಯಾನನೈಜೇಶನ್) ಭಾಗವಹಿಸುವ ಒತ್ತಡ ನಮಗೆ ಅರ್ಥವಾಗುತ್ತಿಲ್ಲ.

2. ಈ ಘೋಷಣಾ ಕಾರ್ಯಕ್ರಮ ತೆರೇಸಾ ಅವರು ನಡೆಸಿದರೆಂದು ಪ್ರಚುರ ಪಡಿಸಿದ ಪವಾಡಗಳ ಮೇಲೆ ನಿಂತಿದೆ. ವೈಜ್ಞಾನಿಕ ಮನೋಭಾವ ಬೆಳೆಸಿಕೊಳ್ಳಲು ಉತ್ತೇಜಿಸುವ ಸಂವಿಧಾನವಿರುವ ದೇಶದ ವಿದೇಶಾಂಗ ಮಂತ್ರಿಗಳು ಪವಾಡಗಳ ಮೇಲೆ ನಿಂತಿರುವ ಮತೀಯ ಘೋಷಣಾ ಕಾರ್ಯಕ್ರಮವನ್ನು ಅನುಮೋದಿಸುವುದು ನಮಗೆ ಭಯಾಶ್ಚರ್ಯಗಳನ್ನು ಉಂಟುಮಾಡಿದೆ. ನಿಮ್ಮ ಯೋಜಿತ ವ್ಯಾಟಿಕನ್ ಭೇಟಿಯಲ್ಲಿ ತಾವು ಪವಾಡಗಳನ್ನು ಮಾನ್ಯ ಮಾಡುವುದಾದರೆ (ಒಂದು ಪವಾಡದಂತೆ ಮಿದುಳುಕ್ಯಾನ್ಸರ್ ರೋಗಿಯೊಬ್ಬಳು ತೆರೇಸಾ ಅವರಿಗೆ ಪ್ರಾರ್ಥನೆ ಮಾಡಿ ಆರೋಗ್ಯವಂತಳಾದಳಂತೆ), ಭಾರತೀಯ ವೈದ್ಯಕೀಯ ಮಂಡಳಿಯು ತೆರೇಸಾ ಅವರಿಗೆ ಪ್ರಾರ್ಥನೆ ಸಲ್ಲಿಸುವ ವಿಧಾನವನ್ನೂ ತಮ್ಮ ಚಿಕಿತ್ಸಾ ಪದ್ದತಿಯಲ್ಲಿ ಅಳವಡಿಸಿಕೊಳ್ಳಲು ಶಿಫಾರಸ್ಸು ಮಾಡುತ್ತೀರೇನು?

3. ತೆರೇಸಾ ಅವರು ತಮ್ಮ ಬಳಿ ವೈದ್ಯಕೀಯ ಶುಶ್ರೂಷೆಗೆಂದು ಆಶ್ರಯಿಸಿದ್ದ ರೋಗಿಗಳು ಹೇಳಲಾಗದ ಯಾತನೆ ಅನುಭವಿಸುವ ಪರಿಸ್ಥಿತಿ ನಿರ್ಮಿಸುತ್ತಿದ್ದರು. ಕ್ರೈಸ್ತ ಮತದ ನಂಬಿಕೆಗಳಂತೆ ರೋಗಿಗಳ ಮತೀಯ ತಪ್ಪುಗಳನ್ನು ಸರಿಪಡಿಸಲು ಈ ಉಪಾಯವನ್ನು ತೆರೇಸಾ ಅನುಸರಿಸುತ್ತಿದ್ದರು. ತೆರೇಸಾ ಅವರ ಸಂಸ್ಥೆಯಲ್ಲಿ ಅಪಾರ ಪ್ರಮಾಣದ ಹಣ ಇದ್ದರೂ ಸಹ, ಆವರ ಯಾತನೆಯನ್ನು ವೈದ್ಯಕೀಯವಾಗಿ ಪರಿಹರಿಸಲು ಸಾಧ್ಯವಿದ್ದಾಗಲೂ ಕೂಡ ತೆರೆಸಾ ಅವರು ರೋಗಿಗಳು ಯಾತನೆ ಅನುಭವಿಸಬೇಕೆಂದು ಬಯಸುತ್ತಿದ್ದರು. ಪ್ರಶ್ನಾರ್ಹ ಹಿನ್ನೆಲೆ ಇದ್ದ ಹಲವಾರು ಸರ್ವಾಧಿಕಾರಿಗಳು (ಹೈಟಿ ಮತ್ತು ಆಲ್ಬೇನಿಯಾದ ಸರ್ವಾಧಿಕಾರಿಗಳಂಥಹ) ಮತ್ತು ಮೋಸಗಾರರು(ಚಾರ್ಲ್ಸ್ ಕೀಟಿಂಗ್ ಅಂಥಹಾ ) ಅಥವಾ ತಾನು ನಡೆಸುತ್ತಿದ್ದ ಗರ್ಭಪಾತ ವಿರೋಧೀ ಚಟುವಟಿಗೆಗಳನ್ನು ಸಮರ್ಥಿಸುವ ಜನರನ್ನು ತೆರೇಸಾ ಅವರು ಬೆಂಬಲಿಸುತ್ತಿದ್ದರು ಅಥವಾ ಅಂಥಹವರ ಬೆಂಬಲ ಸ್ವೀಕರಿಸುತ್ತಿದ್ದರು. ತೆರೇಸಾ ಅವರು ನಡೆಸುತ್ತಿದ್ದ ಗರ್ಭಪಾತ ವಿರೋಧೀ ಆಂದೋಲನವು ಕ್ರೈಸ್ತ ಮತೀಯ ಪರಿಕಲ್ಪನೆಗಳ ಮೇಲೆ ನಿಂತಿತ್ತು. ಈ ಚಟುವಟಿಕೆಗೆ 70ರ ದಶಕದಿಂದಲೂ ತೆರೇಸಾ ಅವರು ತಮ್ಮ ಪ್ರವಾಸಗಳಲ್ಲಿ ಅರ್ಧಭಾಗವನ್ನು ಮೀಸಲಿಡುತ್ತಿದ್ದರು. ಸಂತ ಅಥವಾ ಸಂನ್ಯಾಸಿ ಎಂಬ ಭಾರತೀಯ ಪದಗಳ ಅರ್ಥವನ್ನು ಕ್ರೈಸ್ತ ಮತೀಯ ಹಿನ್ನೆಲೆ ಇರುವ ಸೈಂಟ್(saint) ಪದಕ್ಕೆ ಆರೋಪಿಸುವುದು ಹಾಸ್ಯಾಸ್ಪದವಾದುದು. ಆದರೆ ಸೈಂಟ್ ಪದವಿ ನೀಡುವುದು ಕ್ರೈಸ್ತರ ನೀತಿ/ಪರಂಪರೆ. ಚರ್ಚ್ ಈ ರೀತಿಯ ಅರ್ಥ ವ್ಯತ್ಯಾಸವನ್ನು ಮಾಡಲು ಉದ್ದೇಶಿಸಿರಬಹುದಾದರೂ, ಭಾರತದ ವಿದೇಶಾಂಗ ಮಂತ್ರಿಗಳು ಘೋಷಣಾ ಕಾರ್ಯಕ್ರಮದಲ್ಲಿ ಭಾಗವಹಿಸಿ ಅದನ್ನು ಸಮರ್ಥಿಸುವುದು ಒಂದು ಅನೈತಿಕ ಕಾರ್ಯವಾಗಿದೆ.

4. ತೆರೇಸಾ ಅವರೇ ಕ್ಯಾಲಿಫೋರ್ನಿಯಾದ ಚಿಕಿತ್ಸಾಲಯಗಳನ್ನು ಸಂದರ್ಶಿಸುತ್ತಿದ್ದರೇ ಹೊರತು ಪ್ರಾಯಶ್ಚಿತ್ತ ಯಾತನೆಯನ್ನು ಅನುಭವಿಸುತ್ತಿರಲಿಲ್ಲ ಎಂಬುದು ಅವರ ಜೀವನದುದ್ದಕ್ಕೂ ನಡೆದುಬಂದ, ಭಾರತದ ಕ್ರೈಸ್ತ ಪವಾಡ ಪ್ರೇಮೀ ಮಾಧ್ಯಮಗಳು ವರದಿ ಮಾಡಿರದ, ಮೋಸದ ದ್ವಂದ್ವ.

5. ಮಾಜಿ ಪೋಪ್, ಜಾನ್ ಪಾಲ್ ಅವರು “ಮೂರನೆಯ ಕ್ರೈಸ್ತ ಸಹಸ್ರಮಾನವು (ಭಾರತದ) ಈ ವಿಶಾಲ ಮತ್ತು ಜೀವಂತ ಭೂಭಾಗದಲ್ಲಿ ಅಪಾರ ಪ್ರಮಾಣದಲ್ಲಿ ಮತಾಂತರಗಳನ್ನು ನೋಡುವಂತಾಗಲಿ” ಎಂದು ಕ್ರೈಸ್ತರಿಗೆ ಕರೆ ಕೊಟ್ಟಿದ್ದರು. ನಿಮ್ಮ ಈ ಯೋಜಿತ ಭೇಟಿ ಭಾರತವನ್ನು ಕ್ರೈಸ್ತ ದೇಶವನ್ನಾಗಿಸುವ ಚರ್ಚಿನ ಗುರಿಗೆ ಅನುಮೋದನೆ, ಸಹಾನುಭೂತಿ ಮತ್ತು ಬೆಂಬಲ ನೀಡಲಿದೆ ಎಂಬುದು ನಿಮಗೆ ಅರಿವಾಗಿದೆಯೇ ಎಂಬುದು ನಮಗೆ ಗೊತ್ತಿಲ್ಲ. ಮತ ನಿರಪೇಕ್ಷ ಭಾರತದ ವಿದೇಶಾಂಗ ಮಂತ್ರಿಗಳಾದ ನೀವು ಈ ರೀತಿಯ ಮತೀಯ ಗುರಿಗಳನ್ನು ಪೂರ್ವಾ-ಪರ ವಿಚಾರಿಸದೇ ಅನುಮೋದಿಸಬೇಕೇ ಎಂಬುದನ್ನೂ ನೀವು ಗಮನಿಸಬೇಕಾಗಿದೆ.

ಉಲ್ಲೇಖಗಳು
1. ಕ್ರಿಸ್ಟೋಫರ್ ಹಿಚೆನ್ಸ“ಮಾಮ್ಮೀ ಡಿಯರೆಸ್ಟ್” http://www.slate.com/articles/news_and_politics/fighting_words/2003/10/mommie_dearest.html

2. ಆರೂಪ್ ಚಟರ್ಜೀ ಅವರ “ಮದರ್ ತೆರೇಸಾ, ಫೈನಲ್ ವರ್ಡಿಕ್ಟ್” ಮೇಟಿಯೋರ್ ಬುಕ್ಸ್, ಮೊದಲ ಮರುಮುದ್ರಣ ಫೆಬ್ರವರಿ 2003, ಕೊಲ್ಕತ್ತಾ, ಪುಟಗಳು179-224.

சுஷ்மா ஸ்வராஜ் அவர்களே! தயவு செய்து வாட்டிகனில் நடக்கும் புனிதர் பட்டமளிப்பு விழாவில் பங்கேற்காதீர்கள்!
இறையாண்மை, சோசியலிசம், குடியாண்மை மற்றும் மதச்சார்பின்மை உள்ள குடியரசான இந்தயாவின் குடிமக்களாகிய நாங்கள், கீழ்க்காணும் காரணங்களை முன்னிட்டு, வாட்டிகனில் நடக்கும் புனிதர் பட்டமளிப்பு விழாவில் பங்கேற்கச் செல்லும் தங்கள் முடிவை மறுபரிசீலனை செய்யுமாறு கேட்டுக்கொள்கிறோம்:

1. ஒரு மதசார்பற்ற நாட்டின் வெளியுறவுத்துறை அமைச்சர் அன்னை தெரசாவுக்குப் புனிதர் பட்டம் அளித்தலைப் போன்ற ஒரு மதம் சார்ந்த விழாவில் கலந்துகொள்ள வேண்டிய அவசியம் என்ன என்பது எங்களுக்குப் புரியவில்லை. இந்தப் பயணம் பொது மக்களிடையே ஏற்படுத்தக்கூடிய தாக்கம் எங்களுக்குக் கவலை அளிக்கிறது.

2. ஆக்னஸ் கங்சே போஜாக்ஷியு என்கிற அன்னை தெரசாவால் செய்யப்பட்டதாக சொல்லப்படும் “அற்புதங்களே” இந்தப் புனிதர் பட்டமளிப்பு விழாவிற்கு அடிப்படைக் காரணம். குடிமக்களிடம் அறிவியல் கண்ணோட்டத்தை ஊக்குவிக்கும் அரசியல் சாஸனம் கொண்ட ஒரு நாட்டின் வெளியுறவுத்துறை அமைச்சர், இப்படி அறிவியலுக்கு விரோதமான நிகழ்வை அடிப்படையாகக் கொண்ட ஒரு புனிதர் பட்டமளிப்பு விழாவில் கலந்து கொள்வது எங்களுக்கு வியப்பாகவும் புரியாத புதிராகவும் உள்ளது. உங்கள் விஜயத்தால் இந்த அற்புதத்துக்கு1 (அன்னை தெரசாவை வேண்டிக்கொண்டதால் ஒரு நோயாளியின் புற்றுக்கட்டி சரியான கதை) நீங்கள் அரசு அங்கீகாரம் கொடுக்கும் பக்ஷத்தில், புற்றுக்கட்டிகளைக் குணப்படுத்த அன்னை தெரசாவுக்குப் பிராத்தனை புரிவதையே ஒரு சிறந்த சிகிச்சையாக, இந்திய மருத்துவக் கழகத்திற்குப் பரிந்துரைப்பதை ஆலோசிப்பீர்களா?

3. அன்னை தெரசா தன்னிடம் அடைக்கலமடைந்த நோயாளிகளை, தங்கள் பாவங்களைக் கழுவ வேண்டும் என்கிற கிறிஸ்தவ மதக் கோட்பாட்டை முன்னிட்டு2, பரிகாரம் என்கிற பெயரில் சொல்ல முடியாத அளவு துயரத்துக்கு ஆளாக்கினார். அவர் நிறுவனத்தில் நோயாளிகளின் துன்பத்தைத் தீர்க்கத் தேவைக்கும் அதிகமான நிதியிருந்தும் இந்தக் கொடுமையைச் செய்தார். அவர் சர்வாதிகாரிகள் (ஹைதி மற்றும் அல்பேனியா போன்ற நாடுகளின்), ஏமாற்றுப்பேர்வழிகள் ( அமெரிக்காவில் ஊழல் குற்றம் சாற்றப்பட்ட, அவருக்கு பணம் தாரை வார்த்த சார்லஸ் கீட்டிங் போன்றவர்கள்) மற்றும் 1970களில் ஆரம்பித்துத் தன் வாழ்நாளில் பாதி நேரம் வெளி நாடுகளில் தன் மனதுக்கு உகந்த கத்தோலிக்க சர்ச்சின் குறிக்கோளான கருக்கலைப்பு எதிர்ப்பு வாதங்களை முன்னிறுத்தி தான் செய்த பிரச்சாரங்களையும் செயல்களையும் ஆதரித்தவர்கள், எனப் பல கேள்விக்குரிய நபர்களின் நிதியுதவிகளைப் பெற்று அவர்களை ஆதரிக்கவும் செய்தார். அப்படிப்பட்டவரை “புனிதர்” என்று கூறுவது பகுத்தறிவுக்கு ஒவ்வாததாகும். ஆனால் அதுவோ கத்தோலிக்க சர்ச்சின் நம்பிக்கை. அதற்கு இந்திய வெளியுறவுத்துறை அமைச்சர் அரசு அங்கீகாரம் கொடுப்பது ஒரு முறையற்ற செயலாகும்.

4. தன் விஷயத்தில் மட்டும், பரிகாரம் என்ற பெயரில் தன் பாவங்களைக் கழுவும் கஷ்டத்தை அனுபவிக்காமல், கலிபோர்னியாவில் உள்ள மருத்துவமனைகளில் சிகிசிச்சை பெற்ற அவரது இரட்டை வேடத்தை, அவருடைய “அற்புதங்களை” விரும்பும் இந்திய ஊடகங்கள் கேள்வி கேட்கவில்லை!

5. முன்னாள் போப் இரண்டாம் ஜான் பால் அரசு விருந்தினராக இந்தியாவுக்கு வந்தபோது, “மூன்றாவது கிறிஸ்தவ சகத்திராண்டு இந்தப் பெரிய முக்கியமான கண்டத்தில் பிரம்மாண்டமான அறுவடை காணட்டும்” என்று பிரகடனம் செய்தார். உங்களுடைய இந்த விஜயம், இந்தியாவைக் கிறிஸ்தவ மயமாக்கும் கத்தோலிக்க சர்ச்சின் நோக்கத்திற்கு அங்கீகாரம் அளித்து அதன் முயற்சிகளுக்கு உத்வேகம் அளிக்கும் என்பதை நீங்கள் உணர்ந்திருக்கிறீர்களா என்பது எங்களுக்குத் தெரியவில்லை. ஒரு மதச்சார்பற்ற நாட்டின் வெளியுறவுத்துறை அமைச்சர் அப்பேர்பட்ட ஒரு குறிக்கோளை மேம்படுத்தி முன்னேற்றுவது சரியா என்கிற கேள்வியை நீங்கள் தீவிரமாக சிந்திக்க வேண்டும்.

குறிப்புகள்:
1. Christopher Hitchens, “Mommie dearest”, http://www.slate.com/articles/news_and_politics/fighting_words/2003/10/mommie_dearest.html

2. Aroup Chaterjee, “Mother Teresa, the final verdict”, Meteor books, first reprint edition, February 2003, Kolkata, pp.
179–224.

শ্রীমতী সুষ্মা স্বরাজ আপনি দযা করে ভাটিকনে যাবেন না
আমরা সার্বভৌম, সমাজতান্ত্রিক, গণতান্ত্রিক, ধর্মনিরপেক্ষ প্রজাতন্ত্র ভারতের নাগরিক গণ আপনা কে অনুরোধ জানাই ভাটিকান সিটিতে মাদার টেরেসার "ক্যানোনাইজেসন" অনুষ্ঠানে না যেতে । আপনাকে এই অনুরোধের কারণ নীচে সংক্ষেপে দেওযা হল।

১। আমরা বুঝতে পারছি না ধর্মনিরপেক্ষ এই দেশের বিদেশমন্ত্রী কৈথোলিক নন্ টেরেসার "ক্যানোনাইজেসন" অনুষ্ঠানে যাবার কি প্রযোজন আছে । আমরা অত্যন্ত উদ্বিগ্ন এই ব্যাপারে যে ভারতের আপামর নাগরিকের মনে এই যাত্রা কি ভাবে রেখাপাত করবে ।

২। টেরেসা কে ভাটিকান "ক্যানোনাইজ" করছে তার কিছু তথাকথিত অলৌকিক ভাবে রোগ সারানোর গল্পকথার ভিত্তিতে । একটি মহিলার মস্তিষ্কে ট্যূমর হযেছিল । সে টেরেসা কে প্রার্থনা‍ করে তার রোগমুক্তির জন্য, এবং কিছু দিন পরে দেখা যায যে তার ট্যূমর আর নেই !

 এটা আশ্চর্যের বিষয যে যেই দেশের সংবিধান তার নাগরিক গণ কে বৈজ্ঞানিক মানসিকতা পোষণ করতে প্রোত্সাহিত করে, সেই দেশের বিদেশমন্ত্রী কেন এই রকম পদক্ষেপ নিচ্ছেন ? আপনার এই অনুষ্ঠানে উপস্থিতি যদি এই অলৌকিক রোগ সারানো কে অনুমোদন করে বসে তা হলে এর পরে আপনি কি ট্যূমর সারনোর অন্যতম পদ্ধতি হিসেবে মদর টেরেসা‍ কে প্রার্থনা করা মেডিকল কাউন্সিল আফ ইণ্ডিযা‍ কে পরামর্শ দেবেন‍ ?

৩। মদর টেরেসার তত্ত্বাবধানে যাদের সেবাশুশ্রূষার জন্য নিযে আসা‍ হত তাদের রোগ এবং কষ্ট উপশমের কোনো প্রচেষ্টাই করা হত না এই বলে যে এতে তাদের পাপক্ষয হচ্ছে । যদিও তার সংস্থায পযসার এবং জোগাডের কোনো অভাব ছিলো না । আরো মজার হচ্ছে যে তার নিজের চিকিত্সার জন্য তিনি আমেরিকার ক্যলিফোর্নিযা শহরে অত্যাধুনিক চিকিত্সা গ্রহণ করতে কখনো দ্বিধাগ্রস্ত হন নি । আর্থিক সমৃদ্ধি এবং সাঙ্গঠনিক স্বচ্ছলতার জন্য তিনি যে কোনো প্রকারের ন্যক্কার জনক লোকের কাছেও সুবিধা নিতে কখনো পিছ্পা হন নি । এই হেন মহিলা কে “সেন্ট্” ঘোষণা‍ করা‍ অত্যন্ত লজ্জার ব্যাপার । কিন্তু দুর্ভ্যাগ্যবশত এটাই হচ্ছে রোমন ক্যথলিক চর্চের চিন্তাভাবনার শৈলী । আমরা মনে করি ভারতের বিদেশ মন্ত্রী সুষ্মা স্বরাজের এই হেন অনুষ্ঠানে উপস্থিত থেকে তাকে মর্যাদাপ্রদান করা অনৈতিক হবে ।

৪। পোপ জোহন পল্ ভারতে এসে আশা ব্যক্ত করেছিলেন যে তৃতীয ক্রিষ্ট সহস্রাব্ধে এশিযাতে ব্যাপক হারে ধর্মান্তরকরণ হবে । আমাদের এই আশংকা‍ যে আপনার ভাটিকনে এই অনুষ্ঠানে উপস্থিতি ধর্মান্তরকরণকে বিপুল ভাবে প্রোত্সাহিত করবে । এটা কি আপনার কাম্য ?

References:
১) “মমি ডিযারেস্ট” - খ্রিষ্টোফার হিচেন্স্ http://www.slate.com/articles/news_and_politics/fighting_words/2003/10/mommie_dearest.html

২) “মাদার টেরেসা, দা ফাইনাল ভার্ডিক্ট” -অরূপ চ্যাটার্জি, মিটিওর বুক্স কলিকাতা.


శ్రీమతి సుష్మ స్వరాజ్, దయచేసి వాటికన్ నగరంలో జరగబోయే క్యాననైసెషన్ సమారోహానికి వెళ్ళకండి
మనము స్వాయత్త సమాజవాది ప్రజాసత్తాత్మక మతనిరపేక్ష పరమైన భారతదేశ వాసులం। తమరు వ్యాటికన్ నగరానికి తరలి తెరెసా గారిని క్రైస్తవమతీయుల ఆదర్శమని ఘొషించే "క్యాననైసెషన్" సమారోహంలో పాల్కొనే అంశాన్ని ఈ కింది అంశాల ఆధారం పైన మరొక్కమారు పరిశీలించవలసి కోరుచున్నాము -

౧। మతనిరపేక్షతని పాటిస్తున్న భారతదేశముయొక్క విదేశాంగ మంత్రులు విదేశీ నేలపై మతసంబంధ కార్యక్రమాలలో (తెరేసాగారి "క్యాననైసేషన్") పాల్గొనవలసిన ఒత్తిడి ఏమిటో మాకు అర్థం కాకున్నది।

౨। ఈ ఘోషణ కార్యక్రమం తెరెసా గారు కొన్ని అద్భుతాలు చేసారని భావించడంపై ఆధార పడి యున్నది। హేతువాద మనోధర్మాన్ని పెంచుకొనడానికి ఉత్తేజిస్తున్న భారతరాజ్యాంగమున్న మన దేశంలో ఇక్కడి విదేశాంగమంత్రులు వింత వింత ప్రవాదాల పైన వేళ్ళూనికొని ఉన్న మత సంబంధమైన ఘోషణ కార్యక్రమాన్ని అనుమోదించడం భయాశ్చర్యాలను కలిగించినది। వ్యాటికన్ కు తమరి ఈ యాత్రలో తమరు ఇటువంటి విడ్డూరాలను మన్నించడమే జరిగితే (ఒక అద్భుతంలో మెదడు క్యాన్సర్ ఒచ్చిన రోగి తెరెసాగారిని ప్రార్థించి ఆరోగ్యవంతురాలైనదట) భారత వైద్యకీయ మండలికి తెరెసా గారికి ప్రార్థన చేసే విధానాన్ని కూడ తమ చికిత్సాపద్ధతిలో అన్వయించుకొనడానికి శిఫారస్సులు చేస్తారా?

౩। తెరెసాగారు తమదగ్గిర వైద్యకీయ శుశ్రూషలకై ఆశ్రయించిన రోగులకు చెప్పరాని యాతన అనుభవించే పరిస్థితిని కలిగిస్తూ ఉండేవారు। క్రైస్తవమతముయొక్క నమ్మకాల అనుసారం రోగుల మత సంబంధమైన దోషాలను సరిదిద్దడానికి ఈ ఉపాయాన్ని తెరెసాగారు అనుసరిస్తూ ఉండేవారని తెలియబడుచున్నది। తెరెసాగారి సంస్థలలో అపారప్రమాణములో డబ్బు ఉండిననూ, వారి యాతనలను వైద్యకీయంగా పరిహరింపబడు వీలున్ననూ తెరెసాగారు రోగులు యాతననే అనుభవించవలనని ఆశిస్తూ ఉండేవారు। ప్రశ్నార్హమైన నేపథ్యంగల పలు మంది సర్వాధికారులు (హైతి మరియు అల్బేనియా దేశముయొక్క సర్వాధికారి) మరియు వంచకులు (చార్ల్స్ కీటింగ్ వంటివారు) అథవా తామే నడిపిస్తున్న గర్భపాతవిరోధి ప్రణాలికలను సమర్థించే జనులను తెరెసాగారు వెన్నంటి మెచ్చుకొనేవారు। అదిగాక అట్టివారి సాయములనూ స్వీకరించేవారు। తెరెసాగారి గర్భపాతవిరోధి ప్రణాలికలు క్రైస్తవమతీయుల నమ్మకాల్ని అనుసరించి ఉండేవి। ఇట్టి కార్యక్రమాలను ౧౯౭౦ నాటినించి చేస్తూ ఉండిన తెరెసాగారు వీటికి తమ ప్రవాసాలలో సగంపాలిని ప్రత్యేకంగా ఉంచేవారు। సాధ్వీ లేక సన్న్యాసిని అను భారతీయపదాల అర్థాన్ని క్రైస్తవమతీయ నేపథ్యంగల సైంట్ పదానికి ఆరోపించడం హాస్యాస్పదమే అగును। ఐనా సైంట్ పదవిని ఇవ్వడం క్రైస్తవమతముయొక్క పారంపరిక వాడుక। చర్చి ఈ తీరైన అర్థవ్యత్యాసాన్ని చేయదలచియున్నప్పుడూ భారతదేశంయొక్క విదేశాంగమంత్రులు ఇట్టి ఘోషణకార్యక్రమంలో పాల్గొని దాన్ని సమర్థించడం ఒక అనైతికకార్యమే అగుచున్నది।

౪। తెరెసా గారు తనకు ఒంట్లో బాగులేనపుడు క్యాలిఫొర్నియాలో ఉన్న చికిత్సాలయాల్ని సందర్శించేవారే తప్ప చికిత్సా మాధ్యమంగా తను ప్రచారం చేస్తున్న ప్రార్థనను ఆశ్రయించలేదు. ఇది వారి జీవితంలో ఆద్యంతంగా నడచివచ్చిన, భారతంలోని క్రైస్తవ వింతల మరియు ప్రవాదాల పట్ల మోహముండిన వార్తామాధ్యమాలు ఎక్కడా వెలిబుచ్చని వంచనముల ద్వైధీభావము।

౫। గతించిన పోప్ జాన్ పాల్ గారు "మూడవ క్రైస్తవ సహస్రమానం (భారతంలో )ఈ విశాలమైన, జీవంతమైన భూభాగంలో అపారప్రమాణంలో మతమార్పులను చూచునట్లగునుగాక" అని క్రైస్తవుల్ని పురిగొల్పినారు। మీ ప్రస్తుత వ్యాటికన్ ప్రయాణం భారతాన్ని క్రైస్తవదేశంగా చేసే చర్చివారి లక్ష్యానికి ఆమోదన, సానుభూతి మరియు ప్రోద్బలాన్ని ఇవ్వనున్నదని మీకు తోచినదా అని మాకు తెలియడం లేదు। మతనిరపేక్షమైన భారతంయొక్క విదేశాంగమంత్రులైన మీరు ఇట్టి మతీయలక్ష్యాలను పూర్వాపర విచారణలేక అనుమోదించవలెనా అను విషయాన్ని కూడ మీరు గమనించవలసినది।

ఉల్లేఖములు
1. Christopher Hitchens, “Mommie dearest”, http://www.slate.com/articles/news_and_politics/fighting_words/2003/10/mommie_dearest.html
2. Aroup Chaterjee, “Mother Teresa, the final verdict”, Meteor books, first reprint edition, Feb.2003,Kolkata,pp.179–224.
 

ബഹു: സുഷ്മാ സ്വരാജ് , ദയവായി വത്തിക്കാനിലെ മതപര വാഴ്ത്തപ്പെടൽ ചടങ്ങിൽ പങ്കെടുക്കരുത്
ആകുലചിത്തരായ പരമാധികാര, സ്ഥിതിസമത്വ, ജനാധിപത്യ,മതേതര ജനായത്ത ഭാരതീയരായ ഞങ്ങൾ താഴേ പ്രസ്താവിച്ച കാരണങ്ങളെ പരിഗണിച്ചു വത്തിക്കാനിലെ കുമാരി: തെരേസയുടെ മതപര വാഴ്ത്തപ്പെടൽ ചടങ്ങിൽ പങ്കെടുക്കുന്ന തീരുമാനം പുനഃ പരിശോധിക്കണമെന്നു അപേക്ഷിക്കുന്നു -

മതേതര രാഷ്ട്രത്തിൻ്റെ വിദേശകാര്യ മന്ത്രി മതപരമായ കുമാരി:തെരേസായുടെ വാഴ്ത്തപ്പെടൽ ചടങ്ങിൽ പങ്കെടുക്കേണ്ട ആവശ്യകതയില്ല തന്നെ ! ഈ തീരുമാനത്തിലെ ദാർശനിക വശം ഉത്‌കണ്‌ഠാപരമാണ് !

1. ഈ വാഴ്ത്തപ്പെടൽ "Anjezë Gonxhe Bojaxhiu" അഥവാ കുമാരി:തെരേസായുടെ സങ്കല്‍പിതമായ ദിവ്യാത്ഭുതങ്ങളെ ആധാരമാക്കിയാണ് . വൈജ്ഞാനികമാനോഭാവം അനുശാസിക്കുന്ന ഭരണഘടന അനുസരിക്കുന്ന രാഷ്ട്രത്തി ൻ്റെ വിദേശകാര്യ മന്ത്രി സങ്കല്‍പിതമായ ദിവ്യാത്ഭുതങ്ങളെ സ്ഥിരീകരിക്കുന്നത് എവരേയയയും ഞെട്ടിക്കുന്നു . താങ്കളുടെ ഔദ്യോഗിക സന്ദര്‍ശനം ഇത്തരം സങ്കല്‍പിതദിവ്യാത്ഭുതങ്ങളെ1 (ഒരു അർബുദ രോഗി കുമാരി:തെരേസായുടെ പ്രാർത്ഥനയാൽ മാത്രം രോഗവിമുക്‌തയായതായി )ഔദ്യോഗികമായി സ്ഥിരീകരിക്കുകയാണെങ്കിൽ, ഇത്തരം കുമാരി:തെരേസായുടെ പ്രാർത്ഥനകൾ മെഡിക്കൽ കൌൺസിൽ ഓഫ് ഇന്ത്യക്കു അർബുദ ചികിത്സാ പദ്ധതിയായി ശുപാര്‍ശ ചെയ്യുമോ?

2. കുമാരി:തെരേസാ തൻ്റെ പരിചരണത്തിലുള്ള രോഗികളെ വെളിപ്പെടുത്താന്‍ പറ്റാത്ത ദുരിതാനുഭവത്തിലൂടെ ,ക്രൈസ്തവസിദ്ധാന്തത്തിലൂടെ പരിശുദ്ധമാക്കുന്നതായി വിശ്വസിപ്പിച്ചു ,ക്ലേശമനുഭവിപ്പിക്കുന്നുണ്ടായിരുന്നു .2 . ഈ രോഗികളുടെ രോഗശാന്തിക്കുതകുന്ന ചികിത്സക്കു തൻ്റെ സ്ഥാപനത്തിന് വേണ്ടുവോളം സാമ്പത്തിക ശേഷി ഉണ്ടായിട്ടാണ് അവർ ദുരിതം അനുഭവിച്ചിരുന്നത് . മാത്രമല്ല ഇവർ ആക്ഷേപകരമായ സ്വേച്ഛാധിപതികളായ ( ഹെയ്തി ,അൽബാനിയാ) ,കാപട്യക്കാരായ (യു . എസ്സിൽ ശിക്ഷിതനായ ചാൾസ് കെയ്റ്റിങാണ് വൻ തുക നിക്ഷേപിച്ചിരുന്നത് ) വ്യക്‌തികളെ പിന്താങ്ങുകയും അവരുടെ പിൻതുണ പറ്റുകയും, കാത്തോലിക്കാ വിഭാഗീയ പ്രശ്നമായ ഗർഭഛിദ്രത്തിനെതിരേയുള്ള പ്രവര്‍ത്തനത്തിനെ ഉയര്‍ത്തിപ്പിടിക്കുന്നവരുടെ കൂടേയുള്ള പ്രവർത്തനത്തിലാണ് എഴുപതുകൾക്കു ശേഷമുള്ള വിദേശപ്രവർത്തനത്തിന്റെ ഭൂരിഭാഗം സമയവും ചിലവഴിച്ചതും . ഇത്തരത്തിൽ അപഹാസ്യമായ വ്യക്‌തി പുണ്യവാള പദവിക്കു അർഹമായി കരുതുവാൻ കഴിയില്ല തന്നെ . പക്ഷെ ഇത് തീർത്തും ക്രൈസ്തവ മത വിശ്വാസ൦ മാത്രമാണ് . ഭാരതത്തിന്റെ വിദേശ കാര്യ മന്ത്രിക്കു നിയമപരമായി ഇത്തരം വിശ്വാസങ്ങളിൽ പങ്കുകൊള്ളുന്നത് ദുര്‍വൃത്തിയായേ കരുതുവാനാകൂ .

3. കാലിഫോർണിയയിലെ ചികിത്സാലയത്തിൽ സ്വയം ചികിത്സ വരിച്ച ഇവരുടെ ഇരട്ടത്താപ്പ് കാപട്യനയം ഇന്ത്യയിലെ ദിവ്യാത്ഭുതങ്ങളെ സ്നേഹിക്കുന്ന മാധ്യമങ്ങൾ വേണ്ടത്ര ആരായാത്തതെന്തേ ?

4. നേരത്തെയുള്ള പോപ്പ് ജോൺ പോൾ പ്രഖ്യാപിച്ചതു പ്രകാരം "ഈ വിശാലവും നിര്‍ണ്ണായകവുമായ ഭൂഖണ്‌ഡം ക്രിസ്‌തുവിന്റെ പുനരാഗമനത്തെ ത്തുടര്‍ന്നുണ്ടാകുമെന്നു പ്രതീക്ഷിക്കപ്പെടുന്ന മൂന്നാം സഹസ്രാബ്ദത്തിൽ വിശ്വാസത്തിന്റെ കൊയ്ത്തുകാലമാകട്ടെ " ഇന്ത്യയെ ക്രൈസ്തവീകരിക്കുന്നതിനുള്ള ക്രൈസ്തീയസഭയുടെ ലക്ഷ്യം പ്രോത്സാഹിപ്പിക്കുകയാവും താങ്കളുടെ ഈ സന്ദര്‍ശനം. അഖണ്ഡമതേതര രാഷ്ട്രത്തിന്റെ വിദേശകാര്യ മന്ത്രി ഇഷ്‌ടപ്പെട്ടാലുമില്ലെങ്കിലും ഇത്തരം തല്പരലക്ഷ്യങ്ങളെ പ്രോത്സാഹിപ്പിക്കുന്നത് പരിചിന്തനാര്‍ഹമാണ് !

കുറുപ്പ്‌ -
1. Christopher Hitchens, “Mommie dearest”, http://www.slate.com/articles/news_and_politics/fighting_words/2003/10/mommie_dearest.html

2. Aroup Chaterjee, “Mother Teresa, the final verdict”, Meteor books, first reprint edition,Feb.2003,Kolkata,pp.179–224.


सुषमा स्वराज, कृपया व्हॅटिकन मध्यील कैननैज़ेषन समारंभाला उपस्थित राहूनका
आम्ही, सार्वभौम समाजवादी लोकशाही आणि धर्मनिरपेक्ष भारतीय गणराज्याचे नागरिक , आपणास विनंती करतो की आपण आपल्या तेरेसा यांच्या "कैननैज़ेषन" ला उपस्थित राहण्यासाठी व्हॅटिकन शहराच्या दौराच्या फेरविचार करावा.

1. एका धर्मनिरपेक्ष देशाच्या परराष्ट्र मंत्र्याने एका धार्मिक समारंभास भेट द्यावी हे पचण्यासारखे नाही. उदा कैननैज़ेषन. आम्ही विशेषत: त्याच्या परिणामा विषयी चिंताकुल आहोत.

2. कैननैज़ेषन हा एक चमत्कार आधारित विधी आहे तेरेसा यांनी तो केला असावा. ज्या देशातील राज्यघटना नागरिकांना वैज्ञानिक दृष्टिकोन आर्जवते अशा देशाच्या परराष्ट्र मंत्र्याने एका चमत्कार आधारित समारंभास मंजूरी आश्चर्यचकित करणारी आहे. आपल्या भेटीने एका चमत्कारास कायदेशीरपणे अधिकृता मिळेल (समजा एक गाठीचा रुग्ण तेरेसा यांना प्रार्थना केल्याने बरा झाला. [1] ) गाठीच्या रुग्णाने तेरेसा यांना प्रार्थना करणे हा उत्तम उपचार आहे अशी शिफारस आपण इडिंयन मेडिकल कौन्सिला कराल का ?

3. तेरेसा त्यांच्या निरीक्षणाखाली असलेल्या लोकांना अगणित दु:खे देत असे जेणेकरुन त्यंना ख्रिश्चन विशिष्ट शिकवणी प्रमाणे प्रायश्चित करावे लागेल [2]. त्या हे सगळ त्यांच्या संघटनेजवळ अमाप निधी असतांना सुध्दा करत. याउप्पर अनेक गुन्हातील संशयास्पद व्यक्तींना त्यांचा आधार होता हुकूमशहा (हैटी, अलबेनिया), फसवणूक करणारे (चार्ल्स् कीटिंग्), एका अश्या व्यक्तीस ‘संत’ घोषित करणे हास्यास्पद आहे. जे काही असो ख्रिश्चन चर्चचा तसा विश्वास आहे. पण परराष्ट्र मंत्र्याने तिच्या कैननैज़ेषन ला उपस्थित राहुन अशा समजुती अधिकृत करणे अनैतिक आहे.

4. ती स्वत: आजारी असतांना अनेकदा कॅलिफोर्नियातील दवाखाने पसंत करायची तिच्या ह्या लबाडीवर भारतात चमत्कार प्रेमळ मीडियाने कधी प्रश्नचिन्ह उपस्थित केले नाहीत.

5. पूर्वी पोप, जॉन पॉल जाहीर केले होते ‘’तिसऱ्या ख्रिश्चन मिलेनियम या अफाट आणि महत्वपूर्ण खंडात विश्वासाच्या वातावरणाचा एक चांगला साक्षी बनो’’. हे आम्हाला माहीत नाही की आपल्याला हे लक्षात आहेका आपल्या दौरा ख्रिश्चन चर्चच्या भारत ईसाइकरणाच्या धेयाला अधिकृत करणारा आणि उत्तेजन देणारा सिद्ध होईल. धर्मनिरपेक्ष देशात एक परराष्ट्र मंत्री इच्छा असो वा नसो अशा ध्येयाचा प्रसार करणे बरोबर आहे की नाही हे तुम्हाला विचार करण्यासारखे आहे. के

References:
1. Christopher Hitchens, “Mommie dearest”, http://www.slate.com/articles/news_and_politics/fighting_words/2003/10/mommie_dearest.html

2. Aroup Chaterjee, “Mother Teresa, the final verdict”, Meteor books, first reprint edition, Feb.2003,Kolkata,pp.179–224.

સુષ્મા સ્વરાજ , મહેરબાની કરીને વાટિકાનમાં (કૅનોનિઝાશન) સમારંભમાં હાઝરી ના આપતા
અમે ભારતના સાર્વભૌમ, સમાજવાદી , લોકશાહી, ધર્મનિરપેક્ષ જાગૃત નાગરિક વિનંતી કરીએ છીએ તમે પુનર્વિચાર કરો તમારી મુલાકાતના નિર્ણય માટે કે (કૅનોનિઝાશન ઓફ ટેરેસા)

1. અમને ખબર નથી પડતી કે વિદેશમંત્રીની જરૂર ધર્મનિરપેક્ષ દેશમાં ધર્મ કાર્ય માટે કેમ (કૅનોનિઝાશન ઓફ ટેરેસા) અમે ખાસ કરીને આ વિષય માટે સંબંધિત છીએ.

2. (કૅનોનિઝાશન) એ ચમત્કાર પાર આધારિત છે “Anjezë Gonxhe Bojaxhiu” તરીકે પણ ઓળખાય છે કુમારી ટેરેસા કરવામાં આપી છે એવું માનવમાં આવે છે કે ધ્યાનમાં રાખીને કે વિદેશમંત્રી જે કે દેશનું બંધારણ તેના નાગરિકોને વૈજ્ઞાનિક સ્વભાવ હોય પરંતુ ચમત્કાર પર આધારિત (કૅનોનિઝાશન) ને મંઝૂર કરે છે જો તમે મુલાકાત લેશો તો તમે સંતાવાર રીતે ચમત્કારને શાસકીય સહમતી આપો છો (દાખલા તરીકે જયાં મગજની ગાંઠનો દરદી કુમારી ટેરેસાની પ્રાર્થની સારો થઈ ગયો ) શું આપ ભારતીય ચિકિત્સા પરિષદ (મેડિકલ કાઉન્સિલ ઓફ ઇન્ડિયા) મગજની ગાંઠનો શ્રેષ્ઠ ઉપચાર માટે કુમારી ટેરેસાને પ્રાર્થના કરવા ભાલજાણ કરશો ?

3. કુમારી ટેરેસા એમની નજર હેઠળ લોકોની એ ભાવે સંભાળ રાખતી હતી કે જે અસંખ્ય યાતનાઓ થી પીડાય છે એ ખ્રિસ્તી માન્યતા પ્રમાણે હાંડાની સજા હતી.

તેમની સંસ્થાને લોકોના દુઃખ દૂર કરવા ખુબ દાન મળવા છતાં મદદ કરવાનું ચાલુ રાખ્યું તેણીએ ઘણા શંકાસ્પદ વ્યક્તિઓનું સમર્થન કરવાનું આલુ રાખ્યું કેમ કે, સરમુખત્યારો (હૈતી અને અલ્બામા ), બનાવટ કરનારા (ઠગ) (ચાર્લ્સ કિટિંગ જેને યુ. એસ ને ન્યાયાલયે (રોખીલ) કરાર આપ્યો હતો જેણે તેણીની સંસ્થાને મોટી રકમ દાન આપી હતી ) અથવા જે તેણીના ગર્ભપાત વિરુદ્ધની પ્રવ્રત્તિઓને સમર્થન આપયું હતું ( જે કેથોલિક ચર્ચનો એક મુખ્યમૂદ્દો છો ).

જે તેણીના 70 ના દાયકા ના અડધો અધ્ધ સમયમાં કરેલા વિદેશ પ્રવાસો કર્યા હતા આવા વ્યક્તિને "સંત" ની ખિતાબ અયોગ્ય છે પરંતુ તે ક્રીસ્તી દેવની માન્યતા છે છતાં પરા ભારતના વિદેશ પ્રવારન દ્વારા આવા કાર્યક્રમો માં હાજરી આપી તેને શાસકીય માન્યતા આપવી એ અનેતિક છે

4. તેમની પોતાની યાતનાઓ માટે કેલિફોર્નિયાના દવાખાનામાં સારવાર એ તેમના બેવડા ધોરણ પર સવાલ છે જેને "ચમત્કારપ્રેમી" ભારતીય સમાચાર માધ્યમો એ પૂરતો પૂછ્યો નથી.

5. આ પહેલાના પોપે , જ્હોન પોલ દ્વારા જાહેરાત કરવામાં આવી હતી કે "દોસુ ની ત્રીજી સહસ્ત્રાબ્દી એ આ વિશાલ અને મહત્વપૂર્ણ ખંડમાં (ભારત- એશિયા ) (ઈસુ ખ્રિસ્તમાં ) વિશ્વાસ ની પ્રગતિ ની સાક્ષી બને"

અમને ખબર નથી એ આપવી ને ખ્યાલ છે કે નહિ કે આપની સૂચિત મુલાકાત એ ચર્ચની ભારતની ખ્રિસી કરણ ના ઉદ્દેશ્યને યોગ્ય કેરવશે અને તેને પ્રોત્સાહક બનશે

શું એક બિન સાંપ્રદાયિક દેશના વિદેશમંત્રીએ આવા લક્ષ્યને મને કમને ઉત્તેજન આપવું જોઈએ કે કેમ એ મનન કરવા યોગ્ય બાબત છે

References:
1. Christopher Hitchens, “Mommie dearest”, http://www.slate.com/articles/news_and_politics/fighting_words/2003/10/mommie_dearest.html

2. Aroup Chaterjee, “Mother Teresa, the final verdict”, Meteor books, first reprint edition, Feb.2003,Kolkata,pp.179–224.

 

This petition will be delivered to:
  • Minister of External Affairs
    Sushma Swaraj
  • Prime Minister of India
    Narendra Modi
  • Minister of External Affairs, Government of India
    Sushma Swaraj

    Rationalists Collective started this petition with a single signature, and now has 937 supporters. Start a petition today to change something you care about.