धार्मिक भावना को ठेस पहुँचाया

0 व्यक्ति ने हसताकषर गये। 500 हसताकषर जुटाएं!


मा. न्यायाधीश महोदय,
सर्वोच्च न्यायालय, दिल्ली

द्वारा- मनीषा सिंह, भारतीय नागरिक

विषय- धार्मिक भावना को ठेस पहुँचाया ।

महोदय,

हमारा देश भारत का संविधान किसी भी धर्म अथवा धार्मिक भावना को ठेस पहुँचाने का अधिकार नही देते हैं परन्तु हिन्दू धर्म पर विवादित टिपण्णी देने पर अथवा हिन्दू धर्म के देवी देवताओ पर अश्लील मंतव्य करनेवालों को आजतक कोई सजा ना मिलने के कारण हमारे हिन्दू धर्म पर अश्लील टिपण्णी करनेवालों की संख्या अत्यधिक होगयी हैं, आज प्रशांत भूषण ने हमारे भगवान एवं भारत राष्ट्र की आराध्य देव श्री कृष्ण पर अश्लील टिपण्णी किया हैं उस टिपण्णी का लिंक इस याचिका के साथ जोड़ रहे हैं -: https://twitter.com/pbhushan1/status/848362262913875968

क्या ये बयान हिन्दुओं की धार्मिक भावना को आहत करने वाला नहीं है ? जब कमलेश तिवारी पे कार्यवाही किया गया हैं फिर इस जैसे को आजाद क्यों ?

माननीय न्यायाधीश से दरख्वास्त करती हूँ हिन्दुओ के धार्मिक भावनाओ को ठेस पहुँचाने के आरोप में प्रशान्त भूषण पर उचित कारवाही किया जाए ।

धन्यवाद्,

दिनांक-: 02/04/2017