दिमागी बुखार से बचाव

0 व्यक्ति ने हसताक्ष्रर गए। 100 हस्ताक्षर जुटाएं!


गोरखपुर क्षेत्र में इंसेफेलाइटिस का पहला मामला 1977 में सामने आया था. यह बीमारी अब तक लगभग 18 हजार मासूमों की जान ले चुकी है. इसके बावजूद अब तक प्रोग्राम ठंडे बस्‍ते में है. पिछले कुछ समय से हर साल औसतन 600 लोग इस बीमारी के शिकार हो रहे हैं. हालांकि डॉ. सिंह बताते हैं कि यह आंकड़ा सिर्फ मेडिकल कॉलेज का है. असल में करीब एक लाख बच्‍चों की मौत हो चुकी है.

वायरल इन्सेफेलाइटिस

पूर्वांचल की त्रासदी बन चुका जापानी इंसेफेलाइटिस (जेई) खत्‍म कैसे होगा. जनता के काफी संघर्ष के बाद वर्ष 2012 और 2014 में इंसेफेलाइटिस खत्‍म करने के लिए राष्ट्रीय प्रोग्राम बना, लेकिन अब तक उसे लागू नहीं किया गया है. लगभग सभी सरकारें इस मामले में संवेदनहीन रही हैं.

इस घातक बीमारी को खत्‍म करने के लिए 15 साल से संघर्ष कर रहे इंसेफेलाइटिस उन्मूलन अभियान के चीफ कैम्पेनर डॉ. आरएन सिंह कहते हैं कि केंद्र सरकार को यहां के लोगों को कम से कम 40 राउंड खून से खत लिखा है लेकिन यह प्रोग्राम लागू नहीं हुआ. प्रोग्राम दिल्‍ली की अलमारी में बंद है और बच्‍चे मर रहे हैं.