अयोध्या में भव्य श्रीराम मंदिर निर्माण हेतु

0 व्यक्ति ने हसताकषर गये। 200 हसताकषर जुटाएं!


सन 1527 ईस्वी में मुग़ल आक्रान्ता बाबर द्वारा प्रभु श्रीराम मंदिर को तोड़कर वहाँ पर मन्दिर के रक्षकों के खून का गारा बनाकर मस्जिद निर्माण किया गया 

1990 में मन्दिर को पुनः स्थापित करने का प्रयास करने पर तत्कालीन मुलायम सरकार द्वारा रामभक्तों पर गोलियाँ चलवाईं गईं जिसमें सरकारी आंकड़ों के अनुसार 16 रामभक्त मारे गए जबकि गैर आधिकारिक रूप से यह आंकड़ा सौ से ऊपर था

1992 में हिन्दू रक्षकों के द्वारा इस मस्जिद के ढाँचे को गिरा दिया गया , तमाम पुरातत्ववादियों और भारतीय पुरातत्व विभाग की जाँच में पाया गया कि यहाँ एक भव्य मंदिर था जिसे आक्रांताओं द्वारा तोड़ा गया लेकिन माननीय सुप्रीम कोर्ट द्वारा इसे ना मानते हुए हर बार सुनवाई आगे टाली जा रही , जिससे करोड़ो रामभक्तों को मानसिक प्रताड़ना से गुजरना पड़ रहा है 

मेरी आप सब से प्रार्थना है कि इस समर में सहयोगी बनें और अपील करें कि करोड़ों हिंदुओ के भावनाओं का ख्याल रखते हुए भव्य श्रीराम मंदिर का निर्माण शुरू करवाया जाए जिससे लोगों की आस्था भारतीय सविंधान और कोर्ट में बनी रहे 

निवेदक 

एक टैक्स पे करने वाला भारत का नागरिक जिसे भगवान राम में अगाध आस्था है 



आज — बेंजामिन आप पर भरोसा कर रहे हैं

बेंजामिन पण्डित से "supremecourt@nic.in: अयोध्या में भव्य श्रीराम मंदिर निर्माण हेतु" के साथ आपकी सहायता की आवश्यकता है। बेंजामिन और 157 और समर्थक आज से जुड़ें।