JUSTICE FOR AFRAZUL ISLAM

0 have signed. Let’s get to 100!


 मैंने वो वीडियो देखा। मैंने राजस्थान में हुई उस वीभत्स हत्या का वीडियो देखा, नहीं! मुझे उल्टी नहीं आई। मुझे बस ज़ोर से चीखने का जी हुआ। मैंने अपना मुंह अपनी हथेली से दबा रखा था और मेरी आखें फटी हुई थी। मैं भीतर अपनी चीख दबाना चाह रहा थी। मैं गुस्से से अपने दांत पीस हा था, उस चीख में असहाय तड़प था। लेकिन मैं क्या करता? बस तड़पकर रह गया!

मैंने अखलाक, पहलू खान और जुनैद की चीखें नहीं सुना था। मैंने उन्हें अपने हत्यारे को ‘ए बाबू, ए बाबू’ कहकर पुकारते नहीं सुना। मैंने अफ्रज़ुल की तरह किसी को कराहते और जलते हुए नहीं देखा था।

मैं हत्या तो भूल जाता लेकिन उसकी ‘बाबू, बाबू’ की गुहार कैसे भूलूंगा? मैं उसका कराहना कैसे भूलूंगा? मैं ये कैसे भूलूंगा कि उसे देख मैं तड़प-तड़प कर रह गया और कुछ नहीं कर सका?

ईस हत्या से पहले तक तो मैं जानता था कि मैं मुसलमान हुँ, क्योंकि मुझे बार-बार यह याद दिलाया जाता था। लेकिन पहली बार मैंने खुद को अल्पसंख्यक मान लिया है।

मैंने अखलाक से लेकर जुनैद तक, न जाने खुद को कितनी हिम्मत से समझाया था कि मैं बस एक हिन्दुस्तानी हुँ। भले ही मुसलमान हुँ पर हिन्दुस्तानी हुँ। लेकिन आज मैं ख़ुद को किसी संख्या का हिस्सा मान रहा हुँ। वो संख्या ‘बहु’ नहीं ‘अल्प’ है। मेरे ज़हन में ये कैसी बात डाल दी उस हत्यारे ने? मैं कहीं हताश तो नहीं हो गया हुँ? फिर क्यों मान लिया मैंने कि मैं अल्पसंख्यक हुँ।

मैं बहुत बेचैन हूं यह लिखते हुए। समाज के ऊपर विचारधारा की चादर डाल, भीतर ही भीतर उसे खोखला बनाया जा रहा है। लोग हत्यारे हो रहे हैं। हमारा आज, हमारा भविष्य भयावह होता जा रहा है।

क्या हत्यारे को फाँसी की सजा, या कोई कड़ी से कड़ी सजा नही सुनाई जानी चाहिए ? 

अगर सबकुछ ऐसे ही चलता रहा तो कल क्या हालत होगी हमारे देश की ?

अब नही तो कब ?

हमे अब न्याय की जरूरत है, अब हम और देर चुप नही रह सकते, नही आने वाले कुछ ही दिनो मे देश में हमारे मजहब को लेकर ईतनी घीर्ना बढ़ जाऐगी और हमें इतना परेसान किया जाएगा कि हमारा रहना ही हमें पाप लगेगा।

   तो अगर आप चाहते हैं कि देश में अमन-शांती बनी रहे तो आइए मेरे साथ, इस Petition का Sign कीजिए ।



Today: Sajid is counting on you

Sajid Anwar needs your help with “Smt Vasundhara Raje CM : JUSTICE FOR AFRAZUL ISLAM”. Join Sajid and 19 supporters today.