याचिका बंद हो गई

धारावाहिक द्वारा की जा रही सामाजिक बदनामी को रोकने की मुहिम

यह मुद्दा 127 हस्ताक्षर जुट गये


दौलत के भूखे-भेड़िये धारावाहिक व फिल्मों के माध्यम से समाज में गंदगी फैलाने का कार्य कर रहे हैं

 

सदियों पहले कूटनीतिक षडयंत्र कहें या एक दुर्घटना मगर उस भूल ने उस पाचाल ब्राह्मण समाज को आसमान से धरातल पर ला पटका था जिस पांचाल ब्राह्मण समाज में अनेकों पांचाल राजाओं के परचम लहराया करते थे व जिसका काफी विस्तृत, समृद्ध इतिहास था उसे महाभारत के एक पात्र द्रोपदी की भूमिका की गलत व्याख्या ने इस पांचाल ब्राह्मण समाज को कई टुकडों में व गुमनामी व दरिद्रता की श्रेणी में ला पटका|

पूरा इतिहास देख लीजिये कहीं भी यह लिखा नहीं दिखाई देगा कि, किसी स्त्री के एक से अधिक पति हैं मगर उस द्रोपदी को जिसका केवल एक पति युद्धिष्ठर ही था उस द्रौपदी को '५ पतियों होने के कारण' पांचाली नाम दे दिया गया जो कि इ्तिहास्तः पूर्णतः गलत व असंगत है इस झूठी व काल्पनिक कहानी ने इतिहास के पन्नों पर पांचाल समाज को अपमानित करने का काम किया जिसके भयानक दुष्परिणाम रहे| इसी के कारण जो पांचाल समाज की बहन, बेटियों को अपने नाम के साथ पांचाल शब्द लिखने में संकोच का अनुभव होता था क्योंकि उन्हें पांचाली यानि पाँच पतियों वाली कहकर छेड़ा व चिढ़ाया जाता था| जो समाज कभी अति संपन्न पांचाल ब्राह्मण समाज की श्रेणी में आता था उस समाज के लोग पांचाल नाम को ही अपने से दूर रखने लगे|

आज इन दौलत के भूखे भेडियों ने दौलत की खातिर टेलीविज़न धारावाहिक के जरिये एक बार फिर से पांचाल ब्राह्मण समाज को बदनामी की दलदल में वापस धकेलने का कार्य शुरू कर दिया है| धारावाहिक के कर्ता-धर्ताओं की मोबाईल रिकॉर्डिंग सुनिये, कहते हैं कि, "पांचाल समाज भी है? यह तो हमें मालूम ही नहीं" रिकॉर्डिंग में सुनिये कि, "यह पाँच पतियों वाला पांचाली का mail version है"|

क्या, अब पांचाल ब्राह्मण समाज को फिर से मजाक का पर्याय बनना पड़ेगा?

उठिये, इन दौलत के भूखे भेडियों के खिलाफ जो वक्त पड़ने पर अपनी दौलत की हवस के लिये खुद की बहन, बेटियों को भी पर्दे पर नंगा कर देते हैं| उन्हें सबक सिखायें, ऐसे किसी भी धारावाहिक को बंद करावाने की मुहिम चलायें| आज यह एक पांचाल ब्राह्मण समाज के साथ हो रहा है कल आपके समाज के साथ भी हो सकता है|

यह धारावाहिक वैज्ञानिक पद्धति पर रचित संविधान के उन नियमों की धज्जियाँ उड़ा रहा है जिसमें अंधविश्वास व सामाजिक कुरीतियों को स्थान नहीं दिया गया है साथ ही पति की एक पत्नी से अधिक पत्नियाँ होना संविधान का खुलेआम मजाक उड़ा रहा है| आने वाली पीढ़ी को यह धारावाहिक क्या संदेश देगा? कि, बैठो और कर्म की अपेक्षा तपस्या करो आपकी सारी मनोकामना पूरी होगी, 4-4, 5-5 पत्नियाँ रखने का चलन शुरू हो जायेगा साथ ही समाज व संविधान का मजाक बनता चला जायेगा|

बस, अब बहुत हो गया...

अतः तुरंत 'स्टार भारत' के धारावाहिक 'क्या हाल है मि. पांचाल' का प्रसारण रूकवाने की मुहिम में साथ आयें व पैटिशन साईन करें जिससे एक आवाज सेंसर बोर्ड के साथ-साथ संविधान की उस खिड़की तक पहुँचे जहाँ न्याय के लिये टकटकी लगाये पूरा देश देखता है|

सोनिका क्रांतिवीर

मोब. 99209-13897

भ्रष्टाचार विरूद्ध जागृति अभियान

www.bvbja.com

 

धारावाहिक द्वारा की जा रही सामाजिक बदनामी को रोकने की इस मुहिम में साथ देने के लिये SMS करें SMS में लिखेंः

Capital Letters में BVBJA लिखें space दें, अपना पहला नाम लिखें space दें, मध्य नाम लिखें space दें, आखिरी नाम लिखें space दें, और पिनकोड लिखें space दें, कोड लिखें, इसको 56767 पर भेज दें|

• FirstName यानि पहला नाम

MiddleName यानि पिता / पति का पहला नाम (यह सरकारी नियम है)

LastName यानि अन्तिम नाम या Sirname

Pincode यानि आप जहाँ रहते हैं, वहाँ का पिनकोड

Code यानि संगठन द्वारा हर विभाग को अलग-अलग कोड संख्या में बाँटा गया है, इसलिये इसकी जरूरत है

उदाहरणः अगर आपका नाम "राम के. शर्मा है पिनकोड 462003 व आप धारावाहिक के द्वारा की जा रही सामाजिक बदनामी को रोकना चाहते हैं तो आपका कोड 45 है और आपको लिखना है

bvbja ram k sharma 462003 45 और 56767 पर भेजना है|



आज — सोनिका आप पर भरोसा कर रहे हैं

सोनिका क्रांतिवीर से "Shri Prasoon Joshi, Chairperson : धारावाहिक द्वारा की जा रही सामाजिक बदनामी को रोकने की मुहिम" के साथ आपकी सहायता की आवश्यकता है। सोनिका और 126 और समर्थक आज से जुड़ें।