Give salary to 3 girls father who proved innocent on 16 June 2017- Stop Casteism, GundaRaj

0 have signed. Let’s get to 200!


16 June 2017 fresh  investigation report of Deputy Director (Investigation), PHED, Patna, Bihar proved culprit officer fake report is wrong that stoped my father salary and through which culprit officer dismissed my father from job making false allegation and published in leading newspapers,  which stole entire famly HumanRights leaving us die with starvation and everyday abuse and humiliation from 9 years. making our entire life a joke with no one giving us food or any help. But now to save accused still salary and justice denied. Even when 15 days timelimit was given to culprit officer senior authority, that is Regional Chief Engineer, Purnea to submit complete investigation report on our complain and culprit officer fake report. But till today no information, Salary or any action on culprit officers. They manipulating things to save accused and kill us. 

WE SEEKS PUBLIC SUPOORT TO HELP US GET FINAL RESULT, 9 YEARS LONG FIGHT WITHOUT SUICIDING. NOW WE HAVE NO MONEY TO EAT FOOD AND MEDICAL, WE ARE VERY WEAK. WE DESERVE OUR FATHER SALARY ON FIRST PRIORITY, WHICH ACCUSED STOPPING BRIBING OFFICER TO KILL US INHUMANLY. 

PLEASE SIGN AND SHOW STRONG SUPOORT, SO CHIEF MINISTER AND PRIMR MINISTER OFFICE O ANY OTHER 9 OFFICIAL TAKE ACTION. 

This is Real Case from Bihar.  We are"Dalit" "Schedule Caste" "UnTOUCHABLES" despite facing inhuman torcher and abuse of casteism from past 9 years,  despite being family of government employee and many strict law already available to save us any atrocity of racism and discrimination crime. And special law of SC/ST act POA Act 1989 which has timelimit to give justice to us within 60 days with submitting report  and charge sheet in special Court. My family facing inhumanity on the name of caste, cause we are Dalit,  which now turned into corruption. Its very serious and important matter of a family and 3 daughters life, liberty,  dignity & human rights. We deserve immediate help with direct and fastest action for father salary on first priority.

Government hides our news and media ignored in pressure of government. 

We are MENTALLY and PHYSICALLY very weak, sick. We can't concentrate to write one line. Living everyday in DEPRESSION and MENTAL torchers. But we still tried to write everything with links of supporting documents on TWITTER. We are on the verge to SUCIDE with STARVATION,using INTERNET as last medium to reach government and peoples for help. 

PHED विभाग को आदेश पर आदेश मिल रहे लेकिन PHED विभाग कारवाई नहू करती है| सबकुछ जानकर भी आजतक सखती नही बरती गई ना कोई Strict action ली गई| आरेपी अधिकारी और आरोपी फर्जी कर्मचारी आज भी आराम से काम कर रहे और कुछ आरोपी retire होकर आराम से retirement की pension ले रहे और पैसे देकर Case रुकवा रहे|

9 वर्षो से वेतन से वंचित| CM को शिकायत किया तो दोषी अधिकारी पर जाँच मे हमे वेतन से वंचित करने कि रिपोर्ट फर्जी निकली है| क्या ईज्जत और शांति से हमे जिने का हक नही है| हम दलित है तो हम गुलाम है| टाल मटोल और गोल मोल कर अब भी वेतन से वंचित है | 

Fresh Investigation Report of PHED, Head Office, Patna and District Magistrate, Purnea came in our favour. 

70 Years of India,s Indepence. But we are ashamed to admit we are victim of slavery, cause of being dalit. I don't know how & where to start. But i tried to write all. We are ashamed to born in India. 

Do India has produced no any honest son. Do all Indian mother produced only corrupt and inhuman officers in India. That's no one can hear us. 9 years no more desire to live. But can't die cause accused will make fake report to insult our soul also and other Indians will enjoy. 

दिखावटी कारवाई चल रही| फिर भी हमारे पझ मे PHED विभाग की जाँच रिपोर्ट आई है और जिला के DM कि भी जाँच रिपोर्ट| आरोपी और PHED विभाग ऐसे  त्थय छुपा गोलमोल कहानी बना सबको सुना ऐसा माहौल बनाती है कि सबकुछ गलत होते हुए भी हम आरोपी लगे और आरोपी भौलेभाले चोर|

उपनिदेशक (अनवेषण), लोक स्वास्थय अभियंत्रण विभाग,  पटना पत्रांक- 5/आ1-104/2015 ज्पांक- 410 दिनाक- 16-06-2017 को आरोपी अधिकारी की रिपोर्ट फर्जी साबित हुई| जिसके कारन पापा कि वेतन बंद है| 

 जिला अधिकारी (DM),  पुर्णियाँ दवारा ज्पांक-1362 दिनांक- 03-08-2017 दवारा आरोपी अधिकारी दवारा फर्जी रिपोर्ट बनाने,  पद का दुरपयोग करने और पापा को Salary देने के लिए विभाग के Principal Secretary, PHED को लिखा है|

ना नियम है| ना कानुन| ना मानवता| फर्जी कर्मचारी का गुन्डाराज| पुरे बिहार सरकार को आरोपी और फर्जी कर्मचारी ने फर्जी रिपोर्ट गोलमोल कहानी बना Receive करवा चोर बना दिया| पर पुरी बिहार सरकार और बिहार के अधिकारी बैठे रहे| वही फर्जी रिपोर्ट हमारे Twitter पर exposure और RTI करने के डर से PHED विभाग ने ही फर्जी declare कर दीया है| PHED हर किसी को तथ्य के विपरित और मनगढंत कहानी बना फसाती है| ताकि कारवाई ना हो और आज भी PHED विभाग वही कर रही है| 

PHED विभाग ने हर एक काम फर्जी और हर एक दिन फर्जी रिपोर्ट बनाई कि आज हम फर्जी रिपोर्ट की हर एक detail तक लिख नही सकते| PHED हर बार ब्यान बदल बदल कर फर्जी रिपोर्ट बनाती है और सबकुछ जानकर भी कोई कारवाई नही|

We had big hope when fresh investigation started by on 07 January 2016 by PHED Department after Chief Minister Office Order. But soon it turned showoff to cover matter and save accused by department. Entire Bihar Govt knows department taking no action by delaying/pending case by this and that. But even after unlimited written complain to Bihar Government and Chief Minister taking no action. 

    Accused torchering, abusing, humiliating us everyday by different way. They bribe lower clerks and staffs who are responsible to send our complain to higher  officer  for action. That's why either our no letters reach higher officer or if reached they without any action, only forward our letter to my father office, who is awared of every single detail and condition of famiky. But till today no action taken by him. 

We reached multiple time to chief minister secretariat to meet higher officers and chief minster of Bihar Nitish Kumar. But we only faced harassment and abuse.  Small clerks and peons never let us move ahead of application section. 

   We filled unlimited request in written and through email for permission to meet chief minister of Bihar. But application section staff niether allowed us to meet and nor forward our application to higher officer and intentionally send that request application of permission to my father department. 

  Now my entire family is very sick and weak physical. Cause of no proper food and medical. We don't have money to go anywhere. 

 

 We demand Chief Minister of Bihar,  Nitish Kumar fix public meeting with us in present of local, state and national media to answer our question. He is chief minister from 13 years and we facing Inhumanity from 9 years. Why he took no action till today. So entire world know reality of our case. 

We Request everyone to Sign our Petition and help us come out of Inhumanity. 

50 आदेश फिर Court आदेश के बाद भी Salary नही देने और आरोपी अधिकारी और आरोपी फर्जी कर्मचारी को ही जाँच अधिकारी बना फर्जी रिपोर्ट बना पापा को,Salary नही देने और जबरदस्पती गुमराह करने के लिए नौकरी तक से निकालने पर दोषी अधिकारीयो पर कारवाई शुरु| 16 June 2017 आरोपी अधिकारी की फर्जी रिपोर्ट

उपनिदेशक (अनवेषण), लोक स्वास्थय अभियंत्रण विभाग,  पटना पत्रांक- 5/आ1-104/2015 ज्पांक- 410 दिनाक- 16-06-2017 को रद्द|

लेकिन 9 साल फिर भी जानबुझ कर Salary नही| ना आरोपी अधिकारी और फर्जी कर्मचारी पर कोई कारवाई|

     जिला अधिकारी (DM),  पुर्णियाँ दवारा ज्पांक-1362 दिनांक- 03-08-2017 को आरोपी अधिझक अभियंता दवारा फर्जी रिपोर्ट बना पापा को वेतन से वंचित करने,  पद के दुरपयोग करने, फर्जी रिपोर्ट बनाने और पापा को वेतन देने के लिए पर्धान सचिव,  लोक स्वास्थय अभियंत्रण विभाग,  पटना को लिखा है| लेकिन अब तक PHED विभाग ने कारवाई नही की है|

   बहन को नौकरी लगी उसकी की Appointment letter आरोपी PHED विभाग अधिझण अभियंता,  Devendra Prasad Singh,  Sauvik Sen,  Toofani Lal ने Postman और Postoffice से मिली भगत कर गायब कर 2014 मे नौकरी बरबाद कर दी| यह आरोपी Postman आरोपी अधिझण अभियंता के फर्जी रिपोर्ट मे भी मौजुद है|

          जाँच मे आरोपी दवारा Appointment letter गायब करना जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी, कटीहार, Order No- 4101101021 दिनांक- 03-02-2017 को जाँच मे सही साबित हुआ|

ना बहन को नौकरी मिली ना आरोपी को सजा| https://twitter.com/SaveLifePMModi/status/883683958562619392

 

Prime Minister of India @NarendraModi say #SaveDaughterEducateDaughter. While Chief Minister Of Bihar @NitishKumar say #EducateAndImpowerDalitGirl 

Here is 3 (Three)  daughters and we are innocent Dalit to. But no one cares to help or listen us. We helplessly moved to Change.Org to file online petition for help with the help of Public Support. 

We are a dalit family of three daughters from small district Purnea of Bihar, India. We don't have food to eat,  no medical. Everyday my family dying with starvation and inhuman physical  and mental brutal torcher. 


GIVE SALARY TO MY FATHER IMMEDIATELY. When accused report is already officially declared fake. Than how and why department and government stopping my father salary,  which is only means of income of my family. 9 years accused not only tried to kill us inhumanly with starvation, still their motive is same. 

 

मेरे पापा PHED, Purnea मे head clerk है| Main Accused Devendra Prasad Singh 30 साल (1975) से बिना Divisional Commissioner से Roster Register निर्गत कराए 30 साल से फर्जी नियुक्ति/Promotion/ACP/Transfer/Establishment कर करोडो कमाता| मेरे पापा उसके 20 साल senior और विभाग के सबसे senior कर्मचारी है| आरोपी धौखेबाजी से आवास पर बुला पापा को रुम मे बंद कर फर्जी files पर signature कराते| मेरे पापा ने Signature नही किया| हर रोज पड़ताड़ित होते|

आरोपीयो दवारा फर्जी transfer कर फसाने का धंधा 30 साल पुरानी है| या तो जबरदस्ती फर्जी Promotion देकर दुसरे कर्मचारी को पापा के पद पर बैठा पर्ताड़ित करना पुराना धंधा है|

आगर मामुली Transfer matter होता तो 9 साल नही होते| ना वेतन नही देने और नौकरी से निकाले कि रिपोर्ट जाँच मे फर्जी निकलती| 

मेरे पापा का फर्जी transfer कर दिया गया| मेरे पापा ने ईसकी शिकायत कि क्योकि जिस जगह मेरे पापा का transfer किया गया| उसे 10 साल से खाली रखा गया था और वहा पर कार्ययत फर्जी कर्मचारी सभी को झुठे आरोप/गबन मे फसा पैसा वसुलते है| फर्जा कर्मचारी जैसे (Anil Kumar Singh) ने स्वय संपति का खुलासा किया है | उसके पास 120 कट्ठा (10 Acre) अररिया जिला मे जमीन है| जो PHED की website के assets मे भी Upload है|

1-head clerk का पद अररिया मे खाली था| आरोपी मेरे पापा के ही पद पर दुसरे कर्मचारी को promotion दे दिया और अररिया का पद खाली छौड़ दिया| जाँच मे 2006 मे आरोपी SE पत्राक-335 से पकड़ा चुका| 

2- 2007 मे भी आरोपी  SE को पापा को पर्ताड़ित करते पकड़ा गया|

Cause of this my father lost his mental stability in 2000. My father in humanly mentally & physically torchered by accused,  specially by Devendra Prasad Singh, which entire department knows. 

हर बार पकड़ाने से खिन्न आरोपी ने 2008 मे पुरे झुठे आरोप लगा transfer  कर मजबुर किया| मगर फिर पकड़ा गए| 

हर हाल मे अररिया transfer कर फसाने मे लगे रहे| 2006 मे फर्जी transfer किया वह रद्द हुई| फिर आरोपी ने वही साजिस 2007 मे रची| फिर फर्जी transfer रद्द हुई| फिर 2008 वही फर्जी transfer कि गई| 

मेरे पापा ने ईसकी शिकायत कि आरोपी ना सिर्फ फर्जीवाड़ा करते है| बच्चो की जिन्दगी भी बरबाद करने मे लगे है|

मेरी बड़ी बहन की शादि की बात चल रही थी| मेरी माँ 2008 मे बिहार थी जो 2009 ने Urgent Operation Patient कई बार Emergency hospital मे रही पर आज तक Operation नही| हमारी पढाई|

आरोपी अधिकारी ने बहाना बनाया/ झुठे आरोप लगाए/ बिना सरकारी अनुमती के/ नियम के विरुध फिर फर्जी transfer कर फसा दिया| 2008 मे नियम के विरुध फर्जी transfer और transfer रद्ध करने का आदेश आया| लेकिन जातिवादि सोच रखने वाले अधिकारी Vijay Kumar Singh, Devendra Prasad Singh, फर्जी कर्मचारी जैसे Anil Kumar Singh हमे मारने लगे| एक झटमे मे हमारी Career का सबसे important साल बारबाद कर दिया गया|

Responsible Authority जो Chief Minister (M) को लिखा पर उसने पैसे लेकर कारवाई नही की| Principal Secretary को लिखा कोई कारवाई नही| 40 आदेश, Court आदेश कारवाई नही|

आरोपी अधिकारी और फर्जी कर्मचारी जाँच अधिकारी (जैसे Anil Kumar Singh) बन पापा की वेतन बंद कर नौकरी तक से निकाल | सभी अखबारो मे छपवा दिया|

हम शिकायत करते रहे कोई कारवाई नही| Chief Minister Of Bihar ने Tweet का Response हमे election के time दिया| आरोपी अधिकारी पर कारवाई 2016 मे शुरु हुई तो 12 January 2016 को ही आरोपी अधिकारी को फर्जी रिपोर्ट जमा करने का आदेश दिया| फिर PHED विभाग फर्जी रिपोर्ट 12 January 2016 से लेकर चुपचाप बैठ गई| फिर कैश दबा दिया गया कोई कारवाई नही| फिर कारवाई की जानकारी छुपा 2016-2017 मे फर्जी रिपोर्ट DM, SP, Commissioner, Prime Minister Office, CM office पुरे बिहार मे गोलमोल कहानी बना बाट दि गई| हम शिकायत पर शिकायत करते रहे 50 आदेश निकले जिसके detail निचे है| हमने  15 जुन को PHED विभाग और Chief Minister को RTI किया तुरंत PHED विभाग ने  डर से 16 जुन 2017 को कारवाई करते हुए आरोपी अधिकारी अधिकारी की रिपोर्ट फर्जी (गलत) declare कर दिया| जिसके आधार पर हमारा पापा को 9 साल वेतन नही मिला है और जिसके आधार पर मेरे पापा को नौकरी सेजबरदस्ती निकाल दवाब बनाने बनाने और अखबारो मे छपवा बदनाम कर जान से मारने कि साजिस हुई है| 

आरोपी अधिकारी जिसने फर्जी रिपोर्ट बनाई Arvind Prakask Ranjan उस पर कारवाई करने Suspend करने कि जगह विभाग ने उसे Patna transfer कर Design Planning का SE बना दिया|

फर्जी कर्मचारी (जैसे Anil Kumar Singh) ईनहे 20 साल पहले ही बिहार सरकार नौकरी से निकाल चुकी है और कई आदेश नौकरी से निकालने को आए| 2004 मे Vigilance ने भी ईन पर कारवाई कर रिपोर्ट मांगी पर आज तक विभाग ने रिपोर्ट नही दी| हमने फर्जी कर्मचारी की Appointment letter की Copy RTI से मांगी तो गलत जवाब भेजा और जब First Appeal कर पटना गए तो विभाग के अधिकारी का गुन्डाराज ही देखा| उस पर कोई RTI का जवाब नही|

ना कोई आरोप| ना कोई गबन| आरोपी को भी वेतन मिल रहा और फर्जी कर्मचारी को भी| PHED विभाग जबकुछ जानकर भी तमासा देखती रही और बिहार सरकार अंधे और बहरो कि तरह बिना हमारे आवेदन और तथ्य जाने आरोपी की मदद कर रही है|

 

    My father is head clerk in Public Health & Engineering Department,  Purnea,  Bihar. He is permanent and senior most clerk of department. But he is denied to have salary/posting by accused officer, who made fake and illegal allegations on my father. 

   16 June 2017 official fake report is officially rejected. But still no salary given to my father,  nor any punishment to accused. 

   My family has zero (No)  source of income. We some how alive doing small works. We dont have food to eat, nor any fundamental rights. https://twitter.com/SaveLifePMModi/status/887403358985875457 we did 30000 tweets for help through twitter @SaveLifePMModi to chief minister and prime minister. But except fake promises we got nothing from local politicians. 

   There is no one left in this whom we haven't wrote for help. From prime minister to chief minister,  President of India. All issues letters for action to department. But no action taken by department. 

    In this world of globalization. My family is victim of racism,  discrimination and casteism from 9 years. But no action taken till today. Accused and entire department worked for accused to kill us. When we exposed them through twitter then finally care started. Not only accused fake report is officially declared fake. Head quarter of department still issuing fake reports of different RTI filled by us. 

     Accused Devendra Prasad Singh who is 20 year junior of my father planned this with the help of accused super intending engineer Vijay kumar sinha. And the only reason was caste and for corruption. 

      Accused Devendra Prasad Singh who belongs to OBC, impersonate as Dalit and was doing illegal business in office from past 30 years. While accused son Ranjeet Kumar Singh,  Junior Engineer,  PHED duty is to steal document and incite peoples spreading fake stories, like father like son,  not only this he impersonate himself as handicapped, while he is 100% perfect. This is the reason he is kicked out of from past job, where in Ministry of Railway he was engineer impersonating himself as handicapped. 

     Accused not only stopped my father salary and threatened us from 9 years. Almost 40 orders been issued till 2012 which includes chief minister,  governor of Bihar,  chief secretary of Bihar to Principal Secretary. After that High Court ordered for my father salary in 2012. But accused took no action. 

    Accused Devendra Prasad Singh,  Accused Vijay Kumar Sinha,  Accused Surendra Kumar,  Chief engineer (M)  and Accused Arvind Prakash Ranjan made fake report on father disobeying and insulting court order. 

   Where Accused Superintendenting Engineer himself became investigation officer and they made fake, illegal government employee like Ram Narayan JHA and Anil Kumar Singh as supporting Investigation officers and not only issued order to stop my father father.  They dismissed my father from job in illegal way in 2013,  while my father original retirement is 2017.

    This doesn't end here. Accused and department distributed fake reports to SP,  DM,  CM to PM,  with that they officially published in newspapers to kill us torches. 

 

   On our complain on accused officers and fake report. Chief Minister of Bihar issued investigation as we exposed them through twitter https://twitter.com/SaveLifePMModi/status/887403358985875457

But PHED of Bihar officers to every staff is criminal. They took no action kept hiding facts from us. After the starting of investigation in January 2016 fixed time limit was given for action.  But no action taken,  Than our complain again more than 60 orders for action given through chief minister office to prime minister office. 

    We filled RTI on fake report and fake and illegal government employees who dismissed my fatger from job and stopped my father salary. https://twitter.com/SaveLifePMModi/status/887522695801221120

       Headquarter of PHED issued wrong answer to us and afraid of exposure officer officially reject the fake report in written. 

     We filled case to National Human Right Commission,  Case No/6905/2016. But Bihar NHRC officer taking millions in bribe from accused till today no action. 

   Followed by National Commission for Schedule Caste, whom we complained in 2014. But he also taking millions in bribe till today no action taken,  which is specially designed to protect Dalit with POA Act. Notification 9/54/2016-B date - 02-12-2016 is our case number. 

   But investigation officer Sunil Kumar Singh who is in charge of our case in NCSC,  Patna after taking millions in bribe taking no action. 

  We complained this New Delhi,  NCSC and Ministry of Social Justice through this also 3 order came for action.  But till today no action taken by NCSC. 

    When accused officer fake report officially been reject. We again wrote for action to NCSC,  Patna under Prevention of Atrocities Act https://twitter.com/SaveLifePMModi/status/886949846019694594 But no action by investigation incharge S. K. singh of NCSC,  Patna. 

We filled RTI to NCSC, https://twitter.com/SaveLifePMModi/status/880807741333405702 Patna for answer.  But no answer of RTI till today. 

Accused have two messenger whose business was to threat us and deliver fake reports to everyone. In which one Sauvik Sen (Bubai)  is our nieghbour and once been prisioned (Jailed)  for his illegal business. 

And second is Toofani Lal from threating us to delivering fake reports to every department with fake stories and by giving bribe. He is only visit office is month to make attendance.  He lives in Patna,  where department head quarter and other offices are located.  He works as messenger of accused unofficially and officially. He was official messenger of accused officer and department to publish fake report in local newspapers, which we just saw after fake report is officially rejected by department. Here goes all accused photos posted by us on twitter.  https://twitter.com/SaveLifePMModi/status/879233842682494976

Its impossible to tell you the pain of starvation. Department has no answer, that's why they make fake stories.  But have no courage to give RTI answer in written. 

We are helpless family with no help by any means, no money, no food,  no happiness. We somehow alive and making this petition online for help. Please sign it and send it to government for immediate action. 

  We lost our education,  career,  everything.  In place of suiciding. We fighted and still want to get well educated and have life. Accused not only torchered innocent clerk but destroyed three daughters life. 

     

We are making this petotion so Government pass my father salary. Our only motive behind this petition 

1- PLEASE GIVE MY FATHER SALARY

2- ISSUE APPOLOGY IN NEWSPAPERS. The way accused issued and we facing everyday torcher. 

3- DISMISS ACCUSED OFFICER AND FAKE ILLEGAL EMPLOYE FROM JOB

4- GIVE CBI for investigation. 

 We wrote for help through unlimited means through which these unlimited orders issued for action in 2016-2017 after the investigation initiated against accused officer. But all orders failed. Cause till today no action.

       On the other hand.  We complained about the fake report submitted by accused to SP and DM. They fixing their mistake and DM wrote in written for my father salary to department Principal Secretary. https://twitter.com/SaveLifePMModi/status/896966104790179840

   But still we are without pay and salary. 

1- 0000-10103160020 से SP Purnea ( फर्जी Report )

2- 99999-1603160103 से SP Purnea ( फर्जी Report )

3- 99999-1603160104 से SP Purnea ( फर्जी Report )

4- 99999-1703160119 से SP Purnea ( फर्जी Report )

5- 99999-1703160119 से SP Purnea ( फर्जी Report )

6- 99999-1703160119 से SP Purnea ( फर्जी Report )

7- 99999-1703160155 से SP Purnea ( फर्जी Report )

8- 99999-1703160159 से SP Purnea ( फर्जी Report )

9- 99999-1903160110 से Secretary Finance (ग्रह विभाग Forward )

10- 99999-0204160124 से Secretary Home (No action )

11- 99901-2104161737 से Secretary PHED (No Action )

12- 99999-2404160107 से Secretary PHED (No Action )

13- 99999-2404160109 से Secretary Finance (PHED, Secretary Forward )

14- 99999-2404160114 से Secretary Finance (ग्रह विभाग Forward )

15- 99901-2504161737 से DM, Purnea (No Action )

16- 99999- 2504160120 से SP, Purnea ( फर्जी Report )

17- 99999-2604160134 से SP, Purnea ( फर्जी Report )

18- 99999-2604160136 से Commisioner, Purnea ( फर्जी Report )

19- 99999-2604160137 से Commisioner, Purnea ( फर्जी Report )

20- 99999-2704160106 से SP, Purnea ( फर्जी Report )

21- 99999-2704160108 से SP, Purnea ( फर्जी Report )

22- 99999-2704160109 से SP, Purnea ( फर्जी Report )

23- 99999-2704160110 से SP, Purnea ( फर्जी Report )

24- 99999-2704160111 से SP, Purnea ( फर्जी Report )

25- 99999-2704160126 से VIGILANCE Secretary (No Action )

26- 99999-2804160106 से PHED Secretary (No Action)

27- 99999-2804160115 से DM, Purnea (No Action )

28- 99999-2904160122 से VIGILANCE Secretary ( 12 साल पुरानी Report देते है )

29- 99999-2904160136 से Nitish Kumar Office ( Pending )

30- 99999-3004160113 से SP, Purnea ( फर्जी Report )

31- 99999-0205160141 से SP, Purnea ( फर्जी Report )

32 - 99999-0205160142 से SC-ST Welfare Secretary (No Action )

33- 99999-0305160107 से PHED Secretary (No Action )

34- 99999-0305160111 से SP, Purnea ( फर्जी Report )

35- 99999-0405160111 से SP, Purnea ( फर्जी Report )

36- 99999-0405160127 से Nitish Kumar Office (Pending )

37- 99999-0405160129 से PHED Secretary (No Action)

38- 99999-1205160120 से PHED Secretary (No Action)

39- 99999-1505160130 से PHED Secretary (No Action )

40- 99999-1605160133 से PHED, Secretary (No Action)

41- 99901-2405162002 से PHED Secretary (No Action )

42- 99901-2505162002 से DM, Purnea (No Action)

43- 99901- 2505161997 से DM, Purnea (No Action)

44- 99901- 1807160345 से VIGILANCE, Secretary ( No Action )

45- 99901- 2707160345 से PHED, Secretary ( No Action )

46- 99901-2907160345 से FINANCE, Secretary ( ग्रह विभाग Forward )

47- 99901-0108160345 से DM, Purnea ( No Action )

48- 99901-0208160345 से DM, Purnea (No Action )

49- 99901-1208160345 से SP, Purnea ( फर्जी Report )

50- 00001-2803160175 से PHED, Secretary {{ 35 Page की Detail जिसे माननिय मुख्यमंत्री Nitish Kumar जी कौ भेजी थी| }}

51- 99901-1003170055 से UNKNOWN

Prime Minister Of India के Office से आदेश|

(1) PMOPG/E/2015/0103381 से DM, Purnea ( फर्जी Report )

(2) PMOPG/E/2015/0103417 से DM, Purnea ( फर्जी Report )

(3) PMOPG/E/2015/0102289 से DM, Purnea ( फर्जी Report )

(4) PMOPG/E/2016/0168043 से DM, Purnea ( फर्जी Report )

(5) PMOPG/E/2015/0190398 से Secretary, PHED ( No Action )

(6) PMOPG/E/2016/0086986 से Secretary, PHED ( No Action )

(7) PMOPG/E/2017/0280886 से Secretary ,PHED (NO ACTION)

(8) PMOPG/E/2017/0288201 से Secretary, PHED ( No Action)

(9) PMOPG/E/2017/0229694 से Labour Commissnior, Patna (No Action)

(10) PMOPG/E/2017/0224288 से Secretary, PHED (No Action)

(11) PMOPG/E/2017/0338287 से DGP Bihar (No Action)

 

President Of India के Office से आदेश आए|

(1) PRSEC/E/2016/04198 से PHED, Secretary ( No Action )

(2) PRSEC/E/2016/04226 से PHED, Secretary ( No Action )

(3) PRSEC/E/2016/04228 से PHED, Secretary ( No Action )

(4) PRSEC/E/2016/04229 से PHED, Secretary ( No Action )

(5) PRSEC/E/2016/04437 से PHED, Secretary ( No Action )

(7) PRSEC/2017/07157 से PHED Secretary ( No Action)


Public Grievance ( PG) Portal Of Government Of India

(1) GOVBH/E/2017/01014

(2) GOVBH/E/2016/00639

(3) GOVBH/E/2017/01016

(4) DPOST/E/2017/12424

(5) GOVBH/E/2017/01274

(6) DOAAC/E/2017/00474

(7) MOSJE/E/2017/00423 से NCSC, Patna. (NO ACTION)

(8) MEAPD/E/2017/03326

(9) MOSJE/E/2017/00782 से NCSC, Patna. (NO ACTION)

 

Every department already have detailed application sent by us. I request the responsible authorities to provide us medical, food and financial supoort and Salary & justice to my innocent father, who is now over 60 years and very weak and sick. 

आरोपी और विभाग जो कल तक हमे आरोपी कहते थे| अब वह सजा से बचने और सजा कम कराने और संपति जब्त ना हो कहानी का परचार करते है| जहाँ सबकुछ गलत होते हुए भी हम आरोपी लगे| 

आरोपी आजकल कहानी बना परचार कर रहे कि ईनहे पहले Joining करना चाहिए था तब छुट्ठी लेकर फर्जी कर्मचारी और आरोपी के खिलाफ लड़ते| मुद्दा पापा की salary/Posting का था तो हम आरोपी और फर्जी कर्मचारी पर क्यो शिकायत करते ? हम Salary/Posting को लिखते रहे और आरोपी और फर्जी कर्मचारी जो मन मे आ़या दरिंदगी की हद पार कर दी| जब फर्जी रिपोर्ट बनी और फर्जी कर्मचारी जाँच अधिकारी बने तब हमने शिकायत की| ईतना ही नही PHED विभाग हमारा Court आदेश को भी विभाग/आरोपी दिखाती है| जिसमे वकिल ने धौखेबाजी कर हमारी सभी आवेदन और 2011 तक मिले 50 आदेश Justice से छुपा ली वरना 2012 मे CWJC/2012 Patna High Court से 3 महीने मे आरोपी अधिकीरी को जाँच कर Salary/Posting देने कि जगह Court हमे सिधे Salary/Posting और आरोपी को सजा मिलती|

उसके बाद Court मे फर्जी रिपोर्ट फर्जी कर्मचीरी से बना जमा की गई जिस कारन दुसरी Case dismiss हुई| उसके बाद तो Court दवारा नया Writ file के आदेश करने के बावजुद Court Case नही होने दिया| Court Case भी ईसलिए Dismiss हुई क्योकि हमे Court मे जाने नही दिया जाता, वकिल धौखा देता और वेवज 3 साल से समय बरबाद कर रहा था तब Chief Justice को Complain करने पर तुरंत कारवाई हुई और Case dismiss हुई| 25 पत्र लिखे Chief Justice को सब आरोपी का बेटा Ranjeet Kumar Singh ने Chief Justice के office से मिली भग्त कर गायब की PHED विभाग उसे Court मे ही PHED विभाग के काम का बहाना बना रखी थी जिसे हमने जब पकडा तब पता आरोपी का बेटा PHED मे Railway नौकरी से निकालने पर आ गया है|

आरोपीयो ने सजा से बचने के लिए Case उलझा हर हाल मे पापा आरोपी बनाने के लिए जबरदस्ती फर्जी Retirement तक January 2014 मे कर दिया| जबकी पापा की Retirement January 2017 है| ताकि पैसे के आभाव कर हर हाल मे मजबुर/दवाब बना सके| जब मेरी बहन को नौकरी लगी तो February 2014 मे उसकी appointment letter गायब कर दी गई| क्योकि ईससे हमारे घर मे पैसा आ जाता और आरोपी दवाब नही बना सकते| 

आरोपी समय खिचते रहे ताकि पापा की Original Retirement हो जाए पैसे का आभाव कोई ना कोई बहाना बना, झुठा परचार,  अखबारो मे छपवा परिवार को पर्ताड़ित कर दवाब बनाते जो हमारे बाहर जाने पर लोगो दवारा मजाक बनाने पर पता चलती ताकि फर्जी रिपोर्ट accept कर पैसा लेने पर मजबुर किया जाए| 

मेरे पापा की Original retirement हो चुकी है ना तो 9 साल से salary का एक पैसा मिला ना पापा Pention, ले सकते है| क्योकि मेरे पापा की तो 2-2 Retirement हो गई|

विभाग और आरोपी पुरी साजिस से साथ काम कर रहे है| अब कारवाई pending/delay कर हर जगह यह बात फैला रहे कि ईनकी Retirement हो गई है ईनहे कहे पहले retirement ले लेने और फिर फर्जी रिपोर्ट पर लड़े| 

हम कौन सी retirement ले 2014 की या Original retirement 2017 की| PHED विभाग अब आरोपी को बचाने और सजा कम कराने के लिए कहानी बना रही| पहले retirement ले फिर फर्जी रिपोर्ट पर लिखित आवेदन दे| 

यह बात हमे लोगो ने बताई कि आरोपी कारवाई हर हाल मे pending कर Salary नही दे कर | परिवार और पापा को मजबुर करेंगे कि retirement ले ताकि आरोपी की फजी रिपोर्ट उस तरह हम accept कर ले और जब हम फर्जी रिपोर्ट पर शिकायत करेंगे तो विभाग और सरकार कारवाई नही करेगी की और हमे कहेगी " जब पता ही था की रिपोर्ट फर्जी है 9 साल से वेतन नही मिला था तो फर्जी रिपोर्ट Accept करने के बाद क्यो कह कर रहे की यह फर्जी रिपोर्ट है| ताकि ना हमे पैसा मिले,  ना आरोपी को सजा,  ना बच्चो कि जिन्दगी बरबाद करने कि सजा ना कोई अन्य वित्य लाभ ले सके|

आरोपी 9 साल अमाविय साजिस को मामुली transfer matter बनाने क लिए हर तरिके से दवाब बनाने मे लगे कि पहले फर्जी रिपोर्ट accept करे जहाँ फर्जी रिपोर बना हमे आरोपी बना दिया गया है ताकि case मामुली transfer matter का बने और Criminal Conspiracy का Case ना बने|

हमारे Case का Responsible authority विभाग के Chief Engineer (M)  है| According to law और Court Statement 1468/93 of Chief Engineer Mechanical.  "chief Engineer mechanical is responsible authority of establishment work of grade 3 and 4 cadre by government" ईनहे सबकुछ 2006 से पता था क्योकि 2006 मे ईनहोने ही आरोपी SE को पकड़ा था| बिहार सरकार से 50 आदेश,  Chief Minister office से आदेश और CWJC 7099/2012 <_<Court पर कारवाई भी ईनहे ही मिला था पर ईनहोने आरोपी भी पैसे लेकर फर्जी रिपोर्ट बनाई और अनजान बनने का ढौंग किया | यही कारन है हमारी शिकायत पर Deputy Director (Investigation)  को जाँच मिली है| 

कौई भी आरोपी SE गलत establishment करता है तो उसपर Chief Engineer (M) को ही कारवाई करनी थी पर वह आरोपी से पैसा लेकर आरोपी बन गया यही आरोपी है जो पटना मे रह करोड़ो लुटा रहा बचने के लिए| ईतना ही नही नए Chief Engineer (M)  ने भी वही फर्जी रिपोर्ट रिपोर्ट कई विभाग की भेजी है|

हमारे उपर फर्जी रिपोर्ट Devendra Prasad Singh बनाता था बाकि लोग बस sign करते अधिकारी पर अधिकारी बदले पर आरोपी Devendra Prasad Singh 2008 से June 2016 तक Purnea, PHED मे रह फर्जी रिपोर्ट बनाई| उसकी Retirement  2015 मे हुई फिर भी वह retirement के बाद भी धंधा करता रहा| जब 2016 मे कारवाई हुई सभी आरोपी पैरवी करने Patna भागे, आरोपी SE को भी Patna Transfer कर दिया और Devendra Prasad Singh भी Patna भाग गया और अपने बेटे Ranjeet Kumar Singh, Junior Engineer के पास रहने लगा जो ईसी PHED मे फर्जी कार्यरत है| जो पहले Railway मे engineer था जिसे फर्जी विकलंग बनने पर नौकरी नौकर निकाला गया था|

 

सभी आरोपी Patna मे रहते है वह आसानी से हर विभाग Group बना पहुच पैसा देकर Case रुकवाते है| 

1-PHED, Headquarter कि जाँच कारवाई Pending

2-NCSC, Patna आरोपी SE कि फर्जी रिपोर्ट लेकर Case pending 

3-Human Right, Bihar 2 साल रिपोर्ट नही मिलने का बहाना बना Pending 

लेकिन सबकुछ जानकर भी बिहार सरकार और Chief Minister Office कुछ नही कर रही| आरोपी और विभाग ठहके लगा हसते है जाऔ Court जाऔ Court कहेगा transfer  फर्जी था तब वेतन देंगे|

PHED विभाग पुरे जोड़ शौर से फर्जी रिपोर्ट और फर्जी रिपोर्ट मे लिखी बातो का परचार करती है| लेकिन PHED विभाग यह बात किसी को नही बताती है कि हमारी शिकायत जिस आरोपी Superintending Engineer, फर्जी कर्मचारी पर है| वही जाँच अधिकारी है, वही हमारे उपर आरोप लगाए है ना कि विभाग ने, और वही आरोपी ने विभागीय कारवाई की, वही आरोपी वेतन नही देने का आदेश दिया और वही आरोपी ने नौकरी से निकाल दिया|
PHED, विभाग उनही फर्जी रिपोर्ट कि लिखी बात को मौखिक मे बोला बहकाती और बरगलती है| जिसे आप अगर पुछेंगे या लिखित सबुत मांगेगे तो विभाग नही देगी आरोपी SE की फर्जी रिपोर्ट दिखाएगी जिसकी रिपोर्ट जाँच मे गलत (फर्जी) पाई गई है|
हमने आरोपी SE की फर्जी रिपोर्ट रद्द करने का स्पष्ट कारन भी विभाग से पुछा है पर आज तक RTI का जवाब नही|
अगर PHED विभाग आपको कहानी बताएगी तो आप कर्प्या उनसे लिखित मे पझ मांगे क्योकि मौखिक कहानी बना PHED विभाग सबको फसाती है| यही कारन है आरोपी SE के अलावा किसी की दुसरे अधिकारी की रिपोर्ट नही मिलती| विभाग और बड़े अधिकारी गोलमोल कहानी बना आरोपी SE को responsible authority दिखाते है|
जबकी Responsible Authority विभाग मे Chief Engineer (M) है और अगर कोई भी आरोपी SE फर्जी establishment कर कोई भी establishment का नियम तौडता है तो उसे कंडिका -12 के तहत 6 महीने जैल और 60000 जुर्माना है|

यहाँ हम भी बताना चाहते है| यह हमारे साथ officially 5वी बार हो रही है| ईससे पहले भी कई बार फर्जी transfer बना, जबरदस्ती पापा के पद को promotion से भर, फर्जी Court Case मे फसा आरोपी पापा को वेतन से वंचित कर चुका है पर कभी आरोपी को सजा नही हुई|

आरोपी Devendra Prasad Singh के खिलाफ सभी कर्मचारी ने 2014 मे लिखित मे शिकायत की है लेकिन दबंगई ऐसी कारवाई नही| उसकी भी Copy हम सभी को पहले ही दे चुके है|

हमारी Case की Detail 2MB के PDF https://drive.google.com/file/d/0B0eZ2zZgrw1gMWxpTUJNQnZuV1k/view?usp=drivesdk और उसके सबुत 27 MB मे https://drive.google.com/file/d/0B0eZ2zZgrw1gM1pFa2xmNHNyWXM/view?usp=drivesdkबना पुरे बिहार CM, PM, President etc को पहले ही भेज चुके है| जो President of India,  Prime Minister Of India दवारा 2017 मे PHED विभाग को कारवाई करने forward हुई है| जैसे 

(1) PMOPG/E/2017/0224288 से Secretary, PHED (No Action)

(2) PMOPG/E/2017/0338287 से DGP Bihar (No Action)

(3) PRSEC/2017/07157 से PHED Secretary ( No Action)

(4) GOVBH/E/2017/01014 (No Action) 

(5) MOSJE/E/2017/00782 से NCSC, Patna. (NO ACTION)

 

Our parents father and mother now over 60 years, old. All three daughters unmarried cause of no money and fake rumors about my father case. 

A/C April 2017 दलित SC/ST POA Act, 1989 जो किसी भी दलित के उतपिड़न का मामले मे जाँच 60 दिन मे पुरी कर और उसी के अंदर Chargesheet कर special SC/ST Court मे देना है| हमारी दलित आयोग, पटना दवारा कारव होने पर 60 दिन मे कारवा नही हुई तो हमने ईसकी लिखित शिकायत तो आरोपी से पैसा लेकर बैठे जाँच अधुकार S C. singh ने 60 दिन मे कारवा का दिखावा करत हुए हमे आरोपी SE की फर्जी रिपोर्ट फेज दी कि कारवाई ह गई| जबकी दलित आयोग ने Principal Secretary, Regional Chief Engineer को भी notice किया था पर आज तक रिपोर्ट नही दी|

   दलित आयोग Patna को पता है 60 दिन कि timelimit है और ईसी मे हमे न्याय और पापा क salary मिल जाएगी की ईसलिए जानबुझ कर आरोपी से पैसा लेकर कारवाई नही कर रही| जबकी फर्जी रिरोर्ट रद्द होने पर भी हमवे दलित आयोग, पटना को लिखा है| SC/ST Act Pos Act, 1989 के 3 (b)  (b)  के तहत लिखा गया कि पिड़ित पर आश्रित (depent)  सभी लोग पिड़ित है और नियम हमने लिख कर भेजा और यह जानते हुए भी पाप के वेतन पर पुरी पर 3 बेटिया निर्भर करती है कोई कारवाई नही की गई| दलित आयोग, पटना के S. C. singh भी आरोपी से पैसे लेकर कहानी बनाते है कि आपका Case दलित उतपिड़न मे नही आता तो हमने 3 RTI ईस पर की 1st Appeal भी की पर झुठ पकड़ ना ज RTI का जवाब नही दिया| 

   वही मेरी बहन के नौकरी के Case दलित आयोग,  Patna के S. c. Singh ने RTI यह जवाब पत्रांक-7/4/2017-B दिनांक-18/07/2017 को दिया है कि आरोपी और आरोपी Postoffice उनहे रिपोर्ट 6 महीने से नही दी है| दलित आयोग,  Patna के S. c. singh आरोपी PHED, से ईतने पैसे ली है कि उनहे यह तक पता नही मेरी बहन की Case मे बिहार सरकार ने जाँच कर आरोपी Postman को apoountment letter  गायब करने को दौषी माना है| मेरी बहन की दलित आयोग की Case No. है 9/59/2016-B दिनांक-17/11/2016 जिसमे आरोपी को 30 दिन मे रिपोर्ट देने कहा था| पर उसकी भी कारवाई नही की गई|

जो भी विभाग को कारवाई करने Patna भेजा जाता है| आरोपी को जैसे ही notice phone या Letter से मिलती है सभी आरोपी तुरंत वहाँ पैसे लेकर पहुच जाते है|

जिनमे दलित आयोग,  Patna और Bihar Human Rights है| जिनके पास constitutional power है कि वह खुद अपने विभाग कि जाँच अधुकारी से हमारी case मे जाँच कर सकती है| 

    2014 से दलित आयोग,  Patna को हम आवेदन लिख रहै और Delhi, दलित आयोग,  Ministry of Social Justice से आदेश आए और हर बार हमारे Case के जाँच अधिकार S. C. singh है|

We demand higher officer action within time limit and apply POA Act, 1989 in our case, which we already submitted in written. 

If No action taken within time limit. We will rise our voice on international platform using tweets, videos and etc to save our life. No government, PM,  CM is above constitution of India. But everyone broken all laws. We wrote entire India.  But no help or action taken. I don't want to die nor suicide. We will be forced to rise over our voice to international peoples again Indian government  not Indian constitutions. If we forced to do it to save our life. Entire govermen,  system,  PM and CM will be responsible for it. 

We Demand Special request to Chief Minister Of Bihar Nitish Kumar to meet us personally and give my father salary within 24 hour. 

*NOTE*

कोई भी detail या Case की संझित Application और document लेनी हो तो हमे Ramnarayanchoudhary1956@gmail.Com पर email करे|



Today: 3 Daughters Need is counting on you

3 Daughters Need Help needs your help with “@NitishKumar @NarendraModi save 3 girls & family life, living in starvation, Human Rights matter of dalit government clerk facing Inhumanity, when 16 June 2017 report proved father innocent and culprit fake report was wrong to stop salary.”. Join 3 Daughters Need and 154 supporters today.