#NafratMatDikhao : नफ़रत फैलाने वाली खबरों पर हो सख्त कार्रवाई

0 व्यक्ति ने हसताक्ष्रर गए। 1,50,000 हस्ताक्षर जुटाएं!


कोई भारतीय देश का बुरा नहीं चाहता, पर हमारी मीडिया देश को नफरत की आग में झोंकना चाहती है!

न्यूज़ ब्रॉडकास्टिंग स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NBSA) ने सीधे निर्देश जारी किए थे कि देश के सबसे पुराने, धार्मिक और विवादित मुद्दे पर कैसे खबर देनी है और डिबेट करना है। अयोध्या-रामजन्मभूमि मुद्दे पर साफ कहा गया था कि इसपर सारे न्यूज़ चैनलों को सुनिश्चित करना है कि नफ़रत ना फैलाई जाए और किसी समुदाय के प्रति भावनाओं को ना भड़काया जाए। चैनलों को कहा गया था कि जब सुप्रीम कोर्ट इस मुद्दे पर फैसला सुनाए तो सबको मिलकर समाज में शांति बरकरार रखनी है।

दुखद बात ये है कि ज्यादातर चैनलों ने NBSA के निर्देशों की धज्जियां उड़ाई हैं और अपने चैनलों पर वही सांप्रदायिक एजेंडा चला रहे हैं। भारत का मीडिया पिछले कुछ सालों से देश को सांप्रदायिकता की आग में झोंक रहा है। हालात ये हैं कि अब इन भड़काऊ डिबेट के कारण हमारा प्यारा, शांतिप्रिय देश एक खतरनाक मोड़ पर आकर खड़ा हो गया है।

अगर खबर के नाम पर इस सांप्रदायिक एजेंडे को तुरंत नहीं रोका गया और इससे सख़्ती से नहीं संभाला गया तो इसमें देश और देशवासियों का बहुत बड़ा नुकसान होगा।

अगर आप सच्चे भारतीय हैं तो चलिए NBSA से गुहार लगाएं कि वो उन चैनलों पर सख्त कार्रवाई करे जो उसके निर्देशों का पालन नहीं कर रहे हैं और हमारे देश को नफ़रत की आग में धकेल रहे हैं।

#NafratMatDikhao