NEET-JEE परीक्षा को पोस्टपोन करें!

NEET-JEE परीक्षा को पोस्टपोन करें!

0 व्यक्ति ने साइन किए। 2,00,000 हस्ताक्षर जुटाएं!
2,00,000 साइन के बाद ये पेटीशन Change.org पर साइन पाने वाली टॉप पेटीशनों में से एक बन सकेगी!

Akshay Sharma ने Dr Ramesh P Nishank (Education Minister) और को संबोधित करके ये पेटीशन शुरू किया

12वीं क्लास पास करने वाले भारत के छात्रों से आप पूछेंगे कि वो बड़े होकर क्या बनना चाहते हैं तो उनमें से अधिकतर कहेंगे-- डॉक्टर या इंजीनियर। छोटा शहर हो या बड़ा शहर, दो घर के बाद एक घर ऐसा होगा, जिसमें कोई छात्र आईआईटी या एम्स में पढ़ने का सपना देख रहा होगा, उसकी तैयारी कर रहा होगा।

तो सोचिए कि जिस सपने के लिए छात्र दिन-रात एक करते हों, अचानक उसी सपने से वो क्यों डरेंगे। जो माँ-बाप अपने बच्चों का करियर बनाने के लिए अपना पूरा जीवन लगा देते हों, वो अचानक से क्यों अपने बच्चे को घर से निकलने नहीं देंगे।

क्योंकि ज़िंदगी करियर से बड़ी होती है। अगर ये बात हमें कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के समय समझ नहीं आएगी तो फिर कब आएगी?

पूरा भारत देख रहा है कि कैसे देश में आज भी कोरोना के केस बढ़ते चले जा रहे हैं, रोज़ 800-900 लोगों की मौत हो रही है। ऐसे में छात्रों को NEET-JEE परीक्षा देने के लिए विवश करना सरासर अन्याय एवं अत्याचार है!

कई लोगों का मानना है कि भारत में सितंबर या अक्तूबर में कोरोना के पीक पर पहुंचने की संभावना है, और हम इसी दौरान लाखों छात्रों को परीक्षा देने के लिए मजबूर कर रहे हैं। हम अपने बच्चों को इस तरह खतरे के मुँह में नहीं धकेल सकते हैं। बच्चे अकेले नहीं, उनके माता-पिता और परिवार की सेहत और जान भी तो दाँव पर लग जाएगी।

जबतक कोरोना वायरस के संक्रमण की रफ्तार धीमी नहीं हो जाती और स्थिति स्पष्ट नहीं हो जाती, तबतक किसी भी परीक्षा का आयोजन छात्रों और उनके माता-पिता के लिए घातक साबित हो सकता है। इसलिए इन परीक्षाओं को साल के अंत तक के लिए पोस्टपोन कर देने में ही समझदारी है।

मेरी पेटीशन साइन और शेयर करिए ताकि सरकार छात्रों के जीवन की कीमत समझते हुए NEET-JEE की परीक्षा को पोस्टपोन करे।

कोरोना ही नहीं, देश के कई राज्य बाढ़ की मार भी झेल रहे हैं, ऐसे में परीक्षा कराने का निर्णय अमानवीय है। इस पेटीशन को इतना शेयर करें कि हमारी बात सरकार तक पहुँचे और वो इस मुद्दे पर सकारात्मक कार्रवाई करे।

0 व्यक्ति ने साइन किए। 2,00,000 हस्ताक्षर जुटाएं!
2,00,000 साइन के बाद ये पेटीशन Change.org पर साइन पाने वाली टॉप पेटीशनों में से एक बन सकेगी!