Save Moti jheel , the Heart of Motihari

0 व्यक्ति ने हसताकषर गये। 100 हसताकषर जुटाएं!


#सत्याग्रह_भूमी_चंपारण के शहर मोतिहारी को दो हिस्सो मे बाँटनेवाली प्रकृति के अनुपम उपहार #मोतीझील के बचाने के लिए पिछले कई दशको से यहाँ के आम जनता संघर्षरत है देश के स्वच्छाग्रही प्रधानमंत्री अगामी १० अप्रैल को मोतिहारी आ रहे है तो आम जनता उनका ध्यान आकृष्ट करने के लिए कल मशाल जुलुस वाला तस्वीर सोशल मीडिया मे जारी किया है ...बताते चले कि अतिक्रमण गंदी नाली के पानी एवं सिल्ट के कारण मोतीझील दम तोड रही है वही पानी मे आर्सेनिक एवं जहरीले पदार्थ बढाकर यहाँ के आनेवाले कल को बीमार बनाने की ओर अग्रसर है तो प्रधानमंत्री जी आईये अपने स्वच्छता अभियान मे इसे भी शामिल करिये...#PMO India