IAF Mirage 2000 Crash: Justice for Test pilots Squadron Leader Samir Abrol and S. Negi

IAF Mirage 2000 Crash: Justice for Test pilots Squadron Leader Samir Abrol and S. Negi

0 have signed. Let’s get to 100!
At 100 signatures, this petition is more likely to be featured in recommendations!
Petition Petition started this petition to Narendra Modi

Former Navy Chief Admiral Arun Prakash on Sunday said that there is a need to examine the performance of Hindustan Aeronautics Limited (HAL) There is need to examine why HAL not performing: Former Navy Chief Admiral Arun Prakash  Prakash raised his concern after a Mirage -2000 fighter jet crashed on Friday in Bengaluru killing two IAF pilots. Speaking exclusively to ANI, Prakash said: “Indian Defense is largely dependent on Hindustan Aeronautics Limited (HAL) for various equipment, so there is need to examine why HAL is not performing and deficiency needs to be taken care. ”

Taking to Twitter, Prakash on Saturday said that the military has, for decades, flown “poor quality HAL machines and often played with young lives but no reckoning for HAL management.” “Time to focus on the leadership and directors of this giant PSU,” he added. Sources in the Air Force said initial reports suggest that the plane took off and then landed immediately with great force after which the parts of the front portion broke and it crashed into a gate near the runway.

The aircraft was being flown by two test pilots of the Indian Air Force- Squadron Leader Siddhartha Negi and Squadron Leader Samir Abrol. Both pilots were from the Aircraft and Systems Testing Establishment. The avionics and electronic warfare capabilities of the planes were upgraded and the two pilots were taking it for an acceptance test when it crashed at the HAL airport. One of the two pilots managed to eject from the plane, however, he fell on the debris and lost his life. The other pilot was rushed to a hospital but succumbed to his injuries.

बेंगलुरु में शुक्रवार को मिराज-2000 लड़ाकू विमान की दुर्घटना के बाद पूर्व नौसेना प्रमुख एडमिरल अरुण प्रकाश ने शनिवार को कहा कि सेना ने दशकों से हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) के घटिया गुणवत्ता के विमान उड़ाए हैं। उन्होंने एचएएल और राजनीतिक नेतृत्व से जवाबदेही की मांग की है। मूल रूप से फ्रांसीसी कंपनी दासौ द्वारा निर्मित मिराज-2000 को एचएएल में ही अपग्रेड किया गया था। इस दुर्घटना में वायुसेना के दो पायलट स्क्वाड्रन लीडर समीर अबरोल और सिद्धार्थ नेगी की मौत हो गई।

 
खुद नौसेना के पायलट रह चुके एडमिरल अरुण प्रकाश ने शनिवार को ट्वीट कर कहा, 'मिराज को कोई साधारण पायलट नहीं उड़ा रहे थे, वे सर्वोत्तम प्रशिक्षण प्राप्त एयरक्राफ्ट एंड सिस्टम्स टेस्टिंग इस्टेब्लिश्मेंट (एएसटीई) पायलट थे। सेना ने दशकों से एचएएल की घटिया गुणवत्ता की मशीनों (विमानों) को उड़ाया है और अक्सर अपने युवा अधिकारियों को खोया है, लेकिन एचएएल प्रबंधन के लिए उनकी कोई कीमत नहीं है।

अब समय आ गया है जब सार्वजनिक क्षेत्र की इस विशाल इकाई के नेतृत्व और इसके निदेशकों पर ध्यान दिया जाए।' पूर्व नौसेना प्रमुख ने आगे कहा, 'एक सीमा तक एचएएल को कोसा जाना ठीक है, लेकिन यह समय निर्वाचित प्रतिनिधियों से सवाल करने का भी है। 1947 से 35 रक्षा मंत्री सार्वजनिक क्षेत्र की इस विशाल रक्षा इकाई की निगरानी कर चुके हैं, इसकी यूनियन को बढ़ावा देते समय किसी ने भी एचएएल से गुणवत्ता, उत्पादकता और वैमानिकी में नवीनता की मांग नहीं की। न ही उन्होंने उसे कोई तेजतर्रार सीईओ दिया।'

 

0 have signed. Let’s get to 100!
At 100 signatures, this petition is more likely to be featured in recommendations!