STOP constructing Pancheshwar Dam immediately

0 have signed. Let’s get to 100!


These are main reasons for opposing Pancheshwar dam


1. The construction of the Pancheshwar dam is to be constructed in Seismic Zone 5. The water that is stopped in the dam,this increases the chances of earthquakes. Due to this there is a possibility of big earthquakes. In the last 15 years, in the Himalayan region of 'Seismic 5 Zone', ten earthquakes have been recorded above the 5-digit intensity on the reactor scale. Five of these earthquakes have been located within a distance of 10 km from Pancheshwar.

 

2. Due to the construction of the dam, moisture is increased in the land surrounding the dam, due to which the land starts to erode. As can be seen today in villages around the Tehri Dam. In these villages, people's fields, pastures, houses are falling due to the erosion of land.


3. Construction of Pancheshwar dam will be constructed of 11,600 hectares of lake, resulting in the release of methane gas. Scientific research has shown that up to 25% of dams are emitted in the environment of methane gas, with the increase in temperature as well as the devastating changes in local climate.


4. With the presence of machinery and explosives used for construction of the dam, surroundings of the dam area and the presence of dust and other harmful factors in the air will have a bad effect on the health of the people, It would be harmful to birds too. Experts from the Department of Agriculture and Horticulture, in the areas affected by the 1000 MW Karmachi Wangtu Project in Himachal Pradesh, have researched and found that due to the increase in the amount of dust in the environment due to the construction of the dam, there has been adverse impact on agriculture and horticulture.

 

5. The construction of reservoir of 11,600 hectares of land will also result in catastrophic changes in local weather. Incidents like Uttarakhand's 2013 tragedy, Maalpa will become commonplace. Experts have also acknowledged that the role of the dams in Bhagirathi, Alaknanda and Dhauli Valley have been disastrous in the Uttarakhand tragedy.
6. In the construction of this dam, a total of 9100 hectares of land is to be acquired from India, which has the highest 3735 hectares of private land.The houses, farms, pastures, roofs, eagers, mange of the affected people will be drowned and a large number of people will be landless.
7. On one hand, the center and state government talk about the migration of the mountain, due to this dam, more than 50000 families will have to flee the mountain and go to the lowlands.


8. It is believed that it will take 2 years to complete the water in this dam. Thereby, there will be a state of drought in the area under the dam. Due to this, there will be a crisis on the lives of Golden Mahasher, Snow trout and other aquatic organisms. Also, due to low water in Tanakpur and Banbasa Barrage, the irrigation areas of Nepal and India will be deprived of irrigation.
9. This dam proposed in the border of India and Nepal is sensitive to the strategic situation. Also, there is a dispute between India, China and Nepal regarding the emergence of Mahakali river.


10. No policy of any kind is yet clear in any government document to displace thousands of people from this dam. Experiences of earlier dams in the country show that the government has failed in the rehabilitation and rehabilitation of the affected people.
11. By paying more compensation before the people, the government later forces the people to come and fight over the road. As the 400,000 people affected by the Sardar Sarovar dam in Narmada Valley have been fighting for the last 35 years for proper rehabilitation and rehabilitation.

12. It has also been seen that replacing rehabilitation and rehabilitation is done only in rocks, which is why people take many years to start a new life. In the new place, due to lack of employment resources, unemployment increases, due to which the displaced society is mentally disturbed.
13. The affected people are not placed in the same place, due to which there is a distinction between social culture, relationships and gradually dissolving society with many generations.

14. In the dam, with the temples of faith of the people of Mahakali Valley, the shared heritage of Nepal and India are immersed in relation, temples, fairs, fairs, which no government can compensate.
15. Farming land in lieu of farming land is impossible to find in today's time, due to which the government gives compensation to the land and leaves the people who are in a state of welfare for labor. And the compensation that is received also is so low that it is difficult to live by buying property at a new place.


16. 70% of the people have permanent employment in the project but this figure does not apply in any project today. Only at the time of construction, there are opportunities for temporary contracts, drivers etc. to run trains and these opportunities are available to those people who are either politically strong or who have money to pay their bribe.
17. The number of landless people in this project is very high But there is no such policy written by the government, in which there is no rehabilitation and restoration for landless people.
18. Tender worth Rs. 500 crores has already been passed for Tanakpur-Dharchula All-Vaar Road along with the four Dhams. With the construction of the dam, this will stop all this All-Badar road which is necessary for our frontier. Our year-old demand is the demand of Tanakpur Tawaghat route on the banks of Kali so that we can reach our products to the market.

This road is our life line on which work is going on. We have the advantage of this road, not by the dam.
19. According to a survey, it is estimated that after the construction of the dam, the distance of Pithoragarh from Tankpur Haldwani will increase by 7 hours. Pithauragarh Seemant District is in need of transportation for the speed of development, but due to the delay of 7 hours, Pithoragarh will be left behind and will be completely converted to islands.

20. The river is going to be a boon for tourism self-employment. From Mahasir to River Rafting. With the help of local tourism trekking, local production Mandua, , kauni, ghōgha, linseed, chura, as well as many herbs, today's world is in demand. If the dam is built then we will lose this golden opportunity of our future forever.

पंचेश्वर बांध विरोध की प्रमुख वजहें।
1. पंचेश्वर बांध का निर्माण सिस्मिक जोन 5 में होना है। बांध में रोके जाने वाले पानी से पहाड़ों में दवाब पड़ता है। इसके कारण बड़े भूकम्पों की आशंका है। विगत 15 वर्षों में मध्य हिमालय के ‘सीसमिक 5 जोन’ में रिएक्टर पैमाने पर 5 अंकों की तीव्रता से ऊपर वाले दस भूकम्प दर्ज हुए हैं। इनमें से पांच भूकम्पों का केन्द्र पंचेश्वर से 10 किमी की दूरी के अंदर ही रहा है।
2. बांध के निर्माण के कारण बांध के आस-पास की भूमि में नमी बढ़ जाती है जिस कारण भूमि का कटाव होना शुरु हो जाता है। जैसा की आज टिहरी बांध के आस-पास के गांवों में देखा जा सकता है। इन गांवों में लोगों के खेत, चरागाह, घर भूमि के कटाव के कारण धस रहे हैं।
3. पंचेश्वर बांध के निर्माण से 11,600 हेक्टेयर की झील का निर्माण होगा जिससे मीथेन गैस का उर्त्सन होगा। वैज्ञानिक शोधों से पता चला है की बांधों से 25% तक मेथेन गैस पर्यावरण में उत्सर्जित होती है जिससे तापमान में बढ़ोतरी होने के साथ-साथ स्थानीय जलवायु पर भी विनाशकारी बदलाव होता है।
4. बांध के निर्माण कार्य के लिये उपयोग होने वाली मशीनरी व विस्फोटकों से बांध क्षेत्र के आस-पास के वातावरण व हवा में धूल व अन्य हानिकारक कारकों की उपस्थिति से लोगों के स्वास्थ्य के ऊपर तो बुरा असर तो पड़ेगा ही साथ-साथ पशु-पक्षियों के लिये भी हानिकारक होगा। हिमाचल प्रदेश के 1000 मेगावाट की करछम वांगतु परियोजना से प्रभावित इलाकों में कृषि और बागवानी विभाग के विशेषज्ञों ने शोध करके पाया की बांध के निमार्ण से वातावरण में धुल की मात्रा बढ़ने के कारण खेती और बागवानी में बुरा असर पड़ा है।
5. 11,600 हेक्टेयर क्षेत्रफल के जलाशय के निर्माण से स्थानीय मौसम में भी प्रलयकारी बदलाव होगा। 2013 की उत्तराखण्ड की त्रासदी,मालपा जैसी घटनायें आम हो जायेंगी। विशेषज्ञों ने भी माना है की उत्तराखण्ड त्रासदी में भागीरथी, अलकनंदा और धौली घाटी में बने बांधों की भूमिका आपदाकारी रही हैं।
6. इस बांध के निर्माण में भारत की तरफ से कुल 9100 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण होना है जिसमें सबसे अधिक 3735 हेक्टेयर नीजि भूमि का होना है। प्रभावित लोगों के घर, खेत, चरागाह, छाने, इजर, मांगे डूब जायेंगे और भारी संख्या में लोग भूमिहीन होंगे।
7. एक तरफ केन्द्र और राज्य सरकार पहाड़ में पलायन को रोकने की बात करती हैं वहीं इस बांध के कारण 50000 से अधिक परिवारों को पहाड़ से पलायन कर तराई के इलाकों में जाना होगा।
8. ऐसा माना जा रहा है की इस बांध में पानी भरने में 2 वर्ष लगेगा। जिससे बांध के नीचे के क्षेत्र में सुखे की स्थिति बनी रहेगी। इस कारण गोल्डन महाशीर, स्नो ट्राउट और अन्य जलीय जीवों के जीवन पर संकट मडरायेगा। साथ ही टनकपूर व बनबसा बैराज में पानी कम होने की वजह से नेपाल और भारत के सिंचाई वाले क्षेत्र सिंचाई से वंचित रहेंगे।
9. भारत और नेपाल की सीमा में प्रस्तावित यह बांध सामरिक स्थिति से संवेदनशील है। साथ ही महाकाली नदी के उदगम स्थान को लेकर भी भारत, चीन और नेपाल के बीच विवाद है।
10. इस बांध से हजारों लोगों को विस्थापित करने के लिये अभी तक किसी भी सरकारी दस्तावेज में किसी भी प्रकार की कोई नीति स्पष्ट नहीं है। देश में पहले के बने बांधों के अनुभवों से पता चलता है की प्रभावित लोगों के पुनर्वास व पुनर्स्थापन में सरकार नाकाम रही है।
11. लोगों को निर्माण से पूर्व अधिक मुआवजा देकर सरकार बाद में लोगों को सड़क पर आकर संघर्ष करने के लिये मजबूर करती है। जैसा की नर्मदा घाटी के सरदार सरोवर बांध से प्रभावित 40000 लोग आज तक सही पुनर्वास व पुनर्स्थापन के लिये 35 वर्षों से संघर्ष कर रहे हैं।
12. ऐसा भी देखा गया है की पुर्नवास व पुर्नस्थापन की जगह बीहडों में ही होती है जिस कारण लोगों को नये सिरे जीवन शुरु करने में कई वर्ष लग जाते हैं। नयी जगह में रोजगार के साधन न होने के कारण बेरोजगारी बढ़ती है जिस कारण विस्थापित समाज मानसिक तौर से परेशान रहता है।
13. प्रभावित लोगों को एक ही जगह नहीं बसाया जाता जिस कारण सामाजिक संस्कृति, रिश्तेनातों में दूरी आती है और धीरे-धीरे कई पीढियों से साथ फलता-फूलता समाज छिन्न-भिन्न हो जाता है।
14. इस बांध में महाकाली घाटी के लोगों के आस्था के मंदिरों के साथ ही नेपाल और भारत के सयुंक्त साझा विरासतें रिस्ते नाते, मन्दिर, मेले,घाट डूब रहे हैं जिनकी भरपाई कोई भी सरकार नहीं कर सकती।
15. खेती की जमीन के बदले खेती योग्य जमीन आज के समय में मिल पाना नामुमकिन है जिस कारण सरकार जमीन का मुआवजा देकर अपना पल्ला झाड़ती हुयी लोगों को मजधार में छोड़ देती है। और जो मुआवजा मिलता भी है वो इतना कम होता है की नयी जगह सम्पत्ति खरीद कर जीवनयापन करना मुश्किल होता है।
16. 70 % स्थानीय लोगों को परियोजना में पक्के रोजगार का प्रावधान है लेकिन यह आंकडा आज किसी भी परियोजना में लागू नहीं होता है। मात्र निर्माण के समय अस्थायी रुप से छोटे ठेके, गाड़ियों के चलाने हेतु चालक आदि के ही रोजागार के अवसर रहते हैं और ये अवसर भी उन्हीं लोगों को मिलता है जो राजनैतिक रुप से मजबूत होता है या जिनके पाए घूस देने के लिये पैसे होते हैं।
17. इस परियोजना में भूमिहीन लोगों की संख्या बहुत अधिक है लेकिन सरकार के पास लिखित कोई भी ऐसी नीति नहीं है जिसमें भूमिहीन लोगों के लिये किसी प्रकार के पुनर्वास व पुनर्स्थापन का जिक्र हो।
18. चार धाम के साथ ही टनकपुर-धारचूला ऑल वैदर रोड के लिए पांच सौ करोड़ रुपये के टेंडर पास हो चुके है .बांध बनने से यह ऑल बेदर रोड जो हमारे सीमांत के लिए जरूरी है इसका काम रुक जाएगा। हमारी वर्षों पुरानी मांग काली के किनारे टनकपुर तवाघाट मार्ग की मांग है ताकि हम अपने उत्पादनों को बाजार तक पहुंचा सके । यह सड़क हमारी लाइफ लाइन है जिस पर काम चल रहा है। हमको इस सड़क से ही फायदा है बांध से नहीं
19. एक सर्वेक्षण के अनुसार यहअनुमान है कि बांध बनने के बाद टनकपुर हल्द्वानी से पिथौरागढ़ की दूरी 7 घण्टे और बढ़ जाएगी। पिथौरागढ़ सीमांत जिला है विकास की गति के लिए उसे परिवहन की जरूरत है पर 7 घण्टा देर होने से पिथौरागढ़ बहुत पीछे छूट जाएगा और पूरी तरह से टापू में बदल जायेगा।
20. पर्यटन स्वरोजगार के लिए नदी एक वरदान साबित होने जा रही है। महासीर से लेकर रिवर राप्टिंग।साहसिक पर्यटन ट्रैकिंग, और स्थानीय उत्पादनों मंडुवा , मदिरा, कौनी,घोघा, अलसी, च्यूरा, के साथ ही तमाम जड़ी बूटी उत्पादन आज विश्व की मांग है। अगर बांध बनता है तो हम अपने भविष्य के यह सुनहरे अवसर हमेशा के लिए खो देंगे।
Links for reference


Nepal http://www.pmp.gov.np/


Address:
Pancheshwar Multipurpose Project

P.O.Box 20676

Anamnagar, Kathmandu
Phone:
+977 01 4490935, 4468384

+977 01 4462885, 4491112
Email:
pancheshwar6720@gmail.com

INDIA - http://www.firstpost.com/india/pancheswar-dam-uttarakhand-makes-steady-progress-project-to-generate-employment-power-irrigation-3837837.html


READ MORE ABOUT THE RIVER https://en.wikipedia.org/wiki/Sharda_River

 



Today: Anita is counting on you

Anita Nautiyal needs your help with “Mr.Nabin Raj Singh Project Chief: Pancheshwar Dam to be stopped building immediately”. Join Anita and 81 supporters today.