Sign Petition Against MLA and MP of Muzaffarpur for Pathetic Condition of City

0 व्यक्ति ने हसताकषर गये। 100 हसताकषर जुटाएं!


1)मुज़फ़्फ़रपुर, उत्तर बिहार का एक बहुत ही प्रशिद्ध शहर है फिर भी इसकी हालात नरकीय है। बारिश के  मौसम में सारा शहर पानी मे डूब जाता है। मोतीझील हो या सिकंदरपुर मिठनपुरा हो या अहियापुर सब नरक बन जाता है। यह पिछले कई दशकों से चला आ रहा है।पर न तो MLA साहेब को न ही MP साहेब को कोई चिंता है क्योंकि इनके घर मे थोड़े ही पैनी घुसा है।

2)न ही सड़क की स्थिति सुधरी न ही जल निकासी का को व्यवस्था की गई। पर हमारे जन प्रतिनिधि को क्या।मरती है जनता तो मरे

3) smart city के नाम पर करोड़ो रूपया किसके जेब मे गया ईश्वर ही जाने। और मज़े की बात मुज़फ़्फ़रपुर का रैंकिंग स्वछ भारत सर्वे में घट गया और MLA साहेब नगर विकास मंत्री बन गए।

4) आज तक शहर में Drainage की कोई व्यवस्था नही हुई। ऐसे जन प्रतिनिधि का क्या फायदा।

5) न ही शहर का सदर अस्पताल को सुधारा गया न ही skmch को। चमकी बुखार में क्या हुआ सबको याद होगा। MP साहेब को run rate की चिंता ज्यादा थी बच्चो के मरने से।

6) शहर बाढ़ के चपेट में है न MP को न MLA को कोई चिंता है कि लोग जी रहे है कि मर रहे है।

7) शहर में खून खराबा आम बात है।पर MP ,MLA को क्या मतलब।

8) शहर नही कचरा घर है मुज़फ़्फ़रपुर और इसका श्रय भी इन दोनों महानुभावो को जाता है। यदि आप AC गाड़ी में शीशा चढ़ा कर जाएंगे तो आपको दुर्गंध नही आएगा।।।तो इनको कैसे गंदगी समझ मे आएगी।

9) आपको याद है आपके इलाके में यह दोनों महानुभव MP और MLA साहेब कब आये थे आपका दुख सुख जानने। दिमाग पर जोर डालिये शायद याद आ जाये।

10) सड़क पर गाय घूमती रहती है प्लास्टिक खाती है और प्लास्टिक खा कर मर जाती है और यह MLA और MP साहेब गौ सेवा की बाते करते है।क्या इनको गौ हत्या का पापनाही लग्न चाहिये।

 

list बहुत लंबी है। यदि आपको लगता है इनको जगाने का समय आ गया है या इनको बदलने का समय आ गया है तो इस जन याचिका पर sign कीजिये ताकि यह पत्र प्रधानमंत्री तक पहुंचे वह भी देखे की कैसे कैसे लोगो को वह रखे हुए है ।यह उनके लिये जानना इस लिये जरूरी है को लोगो ने उनके नाम पर वोट दिया है और शायद अगले साल में उनके नाम पर ही सब कुछ हो। नही चाहिए ऐसे  MLA और MP हमे।