Regarding mentally and judicial support

0 have signed. Let’s get to 200!


मैं अंकित कुमार चौबे पिता श्रीधर चौबे B.Sc. 6th Sem गणित विभाग, गुरु घासीदास विश्वविद्यालय बिलासपुर का नियमित छात्र हूँ | राष्ट्रीय सेवा योजना (NSS) का Student Coordinator हूँ|

मैं विश्वविद्यालय के छात्रावास स्वामी विवेकानंद बालक छात्रावास में निवासरत हूँ| 19 जनवरी 2018 के रात को छात्रावास के खाना ख़राब होने के वजह से सारे छात्र विरोध प्रदर्शन कर रहे थे | जहां विरोध प्रदर्शन के समय छात्र कल्याण अधिष्टाता (MNT Sir ), Chief Warden (S.S. Singh Sir), सहायक वार्डन (जगदीश सर , प्रशांत सर ) उपस्थित थे तथा विश्वविद्यालय के अन्य सभी अधिकारी गण्य उपस्थित थे  | छात्रों ने खाने के Quality में सुधार की मांग को ना माने जाने पर लगातार कई महीनो से विरोध प्रदर्शन कर रहे थे | अतः मांग ना माने जाने पर और मुख्य वार्डन (S.S. Singh Sir) द्वारा Hostel एवं विश्वविद्यालय से बाहर निकाल दूंगा ऐसा धमकी के रूप में कहा जा रहा था | ऐसी धमकी सुनने के बाद छात्रावास के सारे छात्र उग्र हो गये | जिसमे अज्ञात छात्रों ने माहोल को उग्र बनाया और S.S. Singh Sir के कार पर पथराव किया जिसमे मैं सम्मिलित नहीँ था |

और आज Date 31/01/18 12 बजे मुझे H.O.D. Sir के माध्यम से मुझे सुचना दिया गया,  जिसमे मुझे छात्रावास से निष्कासित किये जाने तथा 3000 का अर्थदण्ड लगाया गया है | इसके सुचना मिलते ही मैं DSW MNT Sir  से मिला, बिना मेरे बातो को सुने धमकी के तौर पर चुपचाप आदेश को मान लेने को कहा गया | महाशय , सविनय निवेदन है पिछला 5 सेमेस्टर  मैं अनुशासनपूर्ण छात्र हूँ | अचानक मुझे आज हॉस्टल से निष्काषित कर दिया गया हैं , जहां मैं पूर्ण रूप से निर्दोष हूँ और मुझे फसाया जा रहा हैं| विश्वविद्यालय से मेरा घर 280 K.M . दूर हैं, इस तरह के अचनाक हुये कार्यवाही से मैं मानसिक रूप से परेशान हूँ|



Today: ankit is counting on you

ankit chaubey needs your help with “Ministry of Human Resource Development: Regarding mentally and judicial support”. Join ankit and 147 supporters today.