याचिका बंद हो गई

Regarding mentally and judicial support

यह मुद्दा 148 हस्ताक्षर जुट गये


मैं अंकित कुमार चौबे पिता श्रीधर चौबे B.Sc. 6th Sem गणित विभाग, गुरु घासीदास विश्वविद्यालय बिलासपुर का नियमित छात्र हूँ | राष्ट्रीय सेवा योजना (NSS) का Student Coordinator हूँ|

मैं विश्वविद्यालय के छात्रावास स्वामी विवेकानंद बालक छात्रावास में निवासरत हूँ| 19 जनवरी 2018 के रात को छात्रावास के खाना ख़राब होने के वजह से सारे छात्र विरोध प्रदर्शन कर रहे थे | जहां विरोध प्रदर्शन के समय छात्र कल्याण अधिष्टाता (MNT Sir ), Chief Warden (S.S. Singh Sir), सहायक वार्डन (जगदीश सर , प्रशांत सर ) उपस्थित थे तथा विश्वविद्यालय के अन्य सभी अधिकारी गण्य उपस्थित थे  | छात्रों ने खाने के Quality में सुधार की मांग को ना माने जाने पर लगातार कई महीनो से विरोध प्रदर्शन कर रहे थे | अतः मांग ना माने जाने पर और मुख्य वार्डन (S.S. Singh Sir) द्वारा Hostel एवं विश्वविद्यालय से बाहर निकाल दूंगा ऐसा धमकी के रूप में कहा जा रहा था | ऐसी धमकी सुनने के बाद छात्रावास के सारे छात्र उग्र हो गये | जिसमे अज्ञात छात्रों ने माहोल को उग्र बनाया और S.S. Singh Sir के कार पर पथराव किया जिसमे मैं सम्मिलित नहीँ था |

और आज Date 31/01/18 12 बजे मुझे H.O.D. Sir के माध्यम से मुझे सुचना दिया गया,  जिसमे मुझे छात्रावास से निष्कासित किये जाने तथा 3000 का अर्थदण्ड लगाया गया है | इसके सुचना मिलते ही मैं DSW MNT Sir  से मिला, बिना मेरे बातो को सुने धमकी के तौर पर चुपचाप आदेश को मान लेने को कहा गया | महाशय , सविनय निवेदन है पिछला 5 सेमेस्टर  मैं अनुशासनपूर्ण छात्र हूँ | अचानक मुझे आज हॉस्टल से निष्काषित कर दिया गया हैं , जहां मैं पूर्ण रूप से निर्दोष हूँ और मुझे फसाया जा रहा हैं| विश्वविद्यालय से मेरा घर 280 K.M . दूर हैं, इस तरह के अचनाक हुये कार्यवाही से मैं मानसिक रूप से परेशान हूँ|



आज — ankit आप पर भरोसा कर रहे हैं

ankit chaubey से "Ministry of Human Resource Development: Regarding mentally and judicial support" के साथ आपकी सहायता की आवश्यकता है। ankit और 147 और समर्थक आज से जुड़ें।