The Sports In Jharkhand under JSSPS Should be Corruption Free

0 have signed. Let’s get to 100!


खेल महाकुंभ (Mission Olympic ) में टैलेंट सर्च के नाम पर झारखंड राज्य खेल प्रोत्साहन सोसायटी (जेएसएसपीएस) के कर्णधारों ने ऐसे-ऐसे जादू-टोने किए हैं कि बड़े से बड़े जादूगरों की आत्माएं अपनी अज्ञानता पर आंसू बहाने को बाध्य हो गयी होंगी। जेएसएसपीएस ने 3000 टाॅप बच्चों की जो सूची जारी की है जिसमें दूसरे दौर के लिए चयनित टाॅप 1725 बालक और 1275 बालिकाओं के नाम दर्ज हैं। इनमंे से दस्तावेजों को खंगालने पर पता चलता है कि 1725 बालकों में से पलामू (डाल्टेनगंज/मेदिनीनगर) के मात्र 5 बालक चेस्ट नंबर PL70529, PL70626, PL71047, PL71210 और PL71331 शामिल हैं। 1275 बालिकाओं में पलामू से एक भी बालिका का नाम सूची में शामिल नहीं हैं। लेकिन बिते शुक्रवार को जो तीसरे दौर के लिए चयनित टाॅप 307 बच्चों की सूची में पलामू के 7 बालक चेस्ट नंबर PL70203, PL70344, PL70862, PL70979/909, PL71173, PL71326 व PL71334 और 5 बालिकाएं चेस्ट नंबर PL70854, PL70856, PL70858, PL70859 व PL71297 जगह बनाने में कामयाब हो गयी हैं।

ये जादू कब और कैसे हो गया ?

इसमें खास बात ये है कि जिन पांच बच्चों को बुलाया गया था, उनमें से कोई भी आखिरी 307 में जगह नहीं बना पाया।  

 जिन्हें अयोग्य बताया, उन्होंने योग्यता प्रमाणित की


जेएसएसपीएस के खेल महाकुंभ में इस साल एक खास बात रही। टाॅप 3000 बच्चों की सूची से जिन्हें बाहर का रास्ता दिखाया गया था उनमें से कुछ बच्चों और उनके अभिभावकों की जिद के आगे जेएसएसपीएस बौना साबित हो गया। टाॅप 3000 से बाहर रहनेवाले कई बच्चों ने टाॅप 307 में अपनी जगह सुरक्षित की है। इनमें पलामू से 12, गिरिडीह से 5, हजारीबाग से 4, रामगढ़ से 11 बच्चों को खोज निकाला है। 


तो क्या स्पोर्टिफाइ ऐसे ट्राॅयल के लिए पूर्णतः अयोग्य थी ?

खेल महाकुंभ के लिए जेएसएसपीएस के कर्णधारों ने स्पोर्टिफाइ नामक कंपनी को ठेका दिया था। इस कंपनी को 24 जिलों में ट्राॅयल करने के बाद टाॅप 3000 बच्चों को चुनने की जिम्मेवारी दी गयी थी। उसने जो टाॅप 3000 बच्चों की सूची दी उससे बाहर के बच्चे टाॅप 307 में जगह बनाने में बड़ी संख्या में कामयाब हुए।

बच्चों का बेहतर प्रदर्शन क्या बताता है ?

सिर्फ और सिर्फ यही कि स्पोर्टिफाइ ने अपना काम इमानदारी से नहीं किया। 



Today: Manoj is counting on you

Manoj Prasad needs your help with “Jharkhand State Promtion Society : The Sports In Jharkhand under JSSPS Should be Corruption Free”. Join Manoj and 29 supporters today.