फ़र्ज़ी दहेज़ मुक़दमे पर शीघ्र प्रतिबन्ध लगे...

0 वयाकत ने हसताकषर गये। 100 हसताकषर जुटें!


सम्मानित देशवासियो,

दहेज़ प्रथा के फर्जी मुक़दमे से आज का निम्न मध्यमवर्गीय युवा पुरुष वर्ग अत्यधिक प्रताड़ित है|

कानूनी अव्यवस्था के कारण वह अपनी जीविका से भी हाथ धो बैठता है क्योंकि उसे हर तारीख में न्यायालय में उपस्थित होना पड़ता है जहां उसे न्याय नहीं मिलता वरन दूसरी तारीख मिलती है और माननीय न्यायाधीश पुरुष का पक्ष नहीं देख पाते और उसे स्त्री के भरण-पोषण के नाम से एक क़िस्त देने को बाध्य किया जाता है जब कि उसके पहले ही उसके आय के स्रोत का अंत हो जाता है|

यही नहीं ऐसे झूठे मुकदमो के कारण कुछ निर्दोष पुरुषो को कारागार भी जाना पड़ता है, इससे उनकी सामाजिक प्रतिष्ठा दाव पर लग जाती है और मानसिक कुंठा का सामना करना पड़ता है |

498-A का कोई उपयोग नहीं है क्योंकि जो सच में प्रताड़ित महिलाए है वह परिवार के साथ सामंजस्य बैठाने के लिए मुँह में ताला लगा लेती है और जो कन्यापक्ष षंडयंत्रकारी है वह इस धारा का दुरूपयोग करते है |
इसलिए इस धारा को तत्काल आपराधिक धारा से हटा लेना चाहिए क्योंकि ये पारिवारिक विषाद का कारण है |

मै स्वयं भुक्तभोगी हूँ ,मै कानपुर का निवासी हूँ व नॉएडा में Aon में कार्यरत था|
पहले बारम्बार न्यायालय की तारीखों व पुलिस के कारण मुझे अपनी नौकरी छोड़नी पड़ी|

इसके बाद आय का कोई स्त्रोत न होते हुए भी न्यायाधीश ने 2000 रूपये प्रतिमाह पत्नी को देने का आदेश किया| मैंने अपने गृहनगर में कई छोटी मोटी नौकरी करने का प्रयास किया पर वधु के पिता CSD कैंटीन से सेवनृवित्त है और वह सबको शराब बाट कर खरीदने में सक्षम है जिससे मुझे अकारण ही नौकरी से हटा दिया जाता, थक हार कर मै दिल्ली वापस गया क्योंकि मुझे नौकरी की बहुत आवश्यकता थी तो Convergys में 6 फरवरी को इंटरव्यू दिया व चयनित हुआ और पुलिस वेरिफिकेशन के बाद उन्होंने मुझे 23 फरवरी को निकाल दिया क्योंकि मै दहेज़ मामले में फसा हुआ हूँ |

मेरी आर्थिक स्तिथि, मनोस्तिथि बिल्कुल भी ठीक नहीं है |
मै कोर्ट, कचहरी से त्रस्त हो चूका हूँ |
मेरा कोई जीविकोपार्जन का साधन नहीं है |
मेरा आत्म-विश्वास डिगा हुआ है व भविष्य अंधकारमय दिख रहा है |
मेरी माता श्री ने योगी जी को भी पत्र भेजा जो कि निरुत्तर रहा|
अतः आप सभी से निवेदन करता हूँ मेरा साथ दे व इस घटिया धारा को समाप्त करने का प्रयास करे |

प्राथनीय

सुदीप आचार्य

 

 

 






आज — Sudeep आप पर भरोसा कर रहे हैं

Sudeep Acharya से "J. S. Khehar: फ़र्ज़ी दहेज़ मुक़दमे पर शीघ्र प्रतिबन्ध लगे..." के साथ आपकी सहायता की आवश्यकता है। Sudeep और 20 और समर्थक आज से जुड़ें।