SHE-makes the world bright, but still struggles to see light

0 व्यक्ति ने साइन किए। 100 हस्ताक्षर जुटाएं!


पहले लोग इस सोच के साथ बेटी को जन्म नहीं देते थे कि शादी के वक्त दहेज देना पड़ेगा जैसे तैसे हमने दहेज प्रथा पर प्रतिबंध लगा कर इस सोच को बदला है और बेटियों के अस्तित्व को बचाया है आज फिर से एक कुरीति ने समाज में बेटियों के अस्तित्व को खतरे में डाल दिया हैं  ! ! कल जो लोग parents बनेंगे वह भी यही चाहेंगे कि उन्हें बेटा हो बेटी नहीं इस डर को खत्म करने में मदद कीजिए और बेटियों का अस्तित्व बचाने की कोशिश करे ! !   So raise your voice for justice. . #justice_for_asifa