We don't want a Masjid, We don't a want Mandir. Instead, create a world-class gov hospital

0 व्यक्ति ने हसताकषर गये। 5,000 हसताकषर जुटाएं!


The problem (समस्या):
It's been more than one century, earlier it was British and now its Indian politicians who are playing the game of divide and rule with innocent citizens of India. Making them fight over Babri Masjid or Ram Mandir. official numbers may be less but its said more than 50,000 people have lost their lives so far.

पहले ब्रिटिश और अब हमारे देश के नेता , १०० साल से भारत की जनता को मूर्ख बनाकर , फुट डालो फूट डालो और शासन करो की रणनीति चला है। खासतौर से राम मंदिर और बाबरी मस्जिद के मुद्दे पर। हालाँकि सरकारी आंकड़े काम है कम है पर कहा जाता है की अब है की अब तक ५०,००० से भी अधिक लोग अपनी जान गँवा चुके है.

The proposed solution (प्रस्तावित समाधान ):
It's time that citizen of the country, stand up say, we don't want both, instead make a world-class govt hospital in same 2.77 acres, where poor are treated without any charge.

अब समय आ गया है की इस देश के नागरिक, एक साथ आवाज़ उठाये कहे न तो हमें मंदिर -मस्जिद दोनों नहीं चाहिए। बजाय उसके एक विश्व स्तरीय अस्पताल बना दिया जाय की गरीबो का मुफ्त इलाज हो।