भारतीय छात्राओं का गणवेश सुधार

0 व्यक्ति ने हसताक्ष्रर गए। 100 हस्ताक्षर जुटाएं!


श्रीमान मानव संसाधन मंत्री
मानव संसाधन विकास मंत्रालय
नई दिल्ली
महोदय!
हम भारतीय अपनी बेटियों का सम्मान करते हैं, अतः उन्हें अंग-प्रदर्शन से रोकते हैं।हम स्त्रियों को पूजते हैं।
      ऐसे देश में शिक्षा- संस्थानों में पाश्चात्य-शैली के गणवेश अनिवार्य है। जिसके अन्तर्गत छात्राओं के गणवेश (युनिफॉर्म) में स्कर्ट होने से बड़ा कष्टप्रद व आपत्तिजनक है। उनके गणवेश में पैर पूरी तरह नहीं ढँक पाते हैं, अतः ठंड के दिनों में ठंड से ठिठुरती रहती हैं। साथ ही पैर दिखते रहने से कई बार मनचलों के  छेड़छाड़ की शिकार भी हो जाती हैं।
  अतः निवेदन है कि विद्यालयीन छात्राओं के लिए ऐसे गणवेश की अनिवार्यता करने की कृपा करें; जिसमें हमारी बच्चियों का शरीर पूरी तरह से ढँका रहे और उनकी सुरक्षा हो।
श्रीधर वि‌. जोशी।