Strict law against rape

0 व्यक्ति ने साइन किए। 500 हस्ताक्षर जुटाएं!


हैदराबाद में हैवानियत का वो रूप भी देख लिया जों शायद सरकार को देश कि बेटियों के साथ हो रही दरिंदगी कि सारी सीमा पार करने कि जुर्रत करने वालों को सबक़ सिखाने के लियें कोई ऐसा क़ानून बनायें जिससे अपराध करने वाला अपराध करने से पहले उसके अंजाम के ख़ौफ़ से क़हरा उठें ।हर बार कोई ऐसा हादसा पुरे देश को झकझोर देता हैं लोग इन घटनाओं से क्रोधित भी होते हैं और दुखी भी होते हैं क्यू कि हर इंसान इस तरह कि घटनाओं को अंजाम देने वालों को सबक़ सीखाना चाहती हैं पर कुछ दिन समाचार पत्रों कि सुर्ख़िया बन के वो घटना पुरानी हों जाती हैं ।लोग अपने कार्यों में व्यस्त हों जातें हैं पर अचानक से देश के किसी कौने में हुयी किसी बहन बेटी पर हुयी दरिंदगी भरी घटना फिर से सवाल खड़ा करती हैं कि हैं भगवान यें सब कैसे रुकेगा ।आज देश को बुलेट ट्रेन और चाँद पे जाने से ज़्यादा ज़रूरी हैं देश कि बेटियों कि सुरक्षा के किए कोई क़ानून बनाने का जिसकी वजह से इन घटनाओं को लगाम लग सकें ।अरे सरकारें बनाने के लिए आधी रात को फ़ैसले सुनाये जाते हैं ,आतंकवाद और भ्रष्टाचार कि कमर तोड़ने के लिए क़ानून बनाए जा सकते हैं तो देश कि सरकार में इस हेवनियत को ख़त्म करने का भी क़ानून बनाना चाहिए ।बेटियों को बचाने के किए और पढ़ाने के लिए नारा देने वाली सरकार से उम्मीद करते हैं कि ऐसा क़ानून बनाए कि लोग आपको इतिहास में याद करे ।