Every death because of COVID in India is MURDER !!

Every death because of COVID in India is MURDER !!

0 have signed. Let’s get to 500!
At 500 signatures, this petition is more likely to be featured in recommendations!
Nirupma Srivastava started this petition to Goverment of India

As a survivor of COVID I believe every single death because of COVID in India is Murder, yes I am 26 year old girl who is without mum now, I am law graduate and I need all of your support, in fear of Indian government I don't revel my identity now, but when I get all of your enough support I will file PIL against Indian Government with littlie hope I got justice from supreme court.

My all family is positive now and my mother was seriously ill because she was diabetic and positive, just only one person it’s me is corona negative, so I bring my mom to hospital with hope I save her life, but I can’t describe hospital situation and I feel doctor is not there for saving people, I feel they just waiting once she die then they admit next one, I see every single moment people died there and it’s make me more hopeless, there was no facility for toilet, not for diabetes check kit, even they don't have pulse oximeter, doctor tell me to buy everything my own , and it was take too much  time, I just see my mom died in front of me, she was in pain and I can’t do anything, i feel helpless and broken, in the hospital one person died they removed them and admitted other infected person on this same bed, even they don’t think to sanitised the bed, it’s clearly shows there negligence, I believe my mom was not died in natural, she was murder because of medical negligence, because of government who is choose to election first, rather then save our own people life, we can’t say we are still backwards country when we reached Mars,
I know my mom never come back again but I don’t want this situation anymore in my country, it’s sad to say but our doctor and medical staff is not capable in any medical emergency and our government too, I want justice for my mom for millions of people who died because of this..

अभी दो दिन पहले मेरी माँ का निधन हुआ.. निधन कहना गलत होगा.. हत्या हुई. कोरोना से, मैं नहीं बचा पाई उन्हे.. आज मेरा पूरा परिवार कोरोना संक्रमित है.. 
मेरी माँ का oxigen level कम होते ही मैं अकेले लेकर उन्हें hospital लेकर भागी.. वहा जाते ही जो मंजर देखा.. वो देखना हर किसी की बात नहीं.. हर second एक हत्या.. Doctor जो आज भगवान कहे जा रहे मरीज को दूर से देख कर निकल जा रहे.. बस treatment के नाम पर oxigen लगा कर छोड़ दिया जा रहा.. किसी को   बुलाने जाओ तो वह यह कह कर अपना हाथ पीछे कर लेता है कि ये मेरा काम नहीं... कोई भी व्यवस्था नहीं.. ना pulse oximeter ना suger kit... कुछ भी कहने पर #bhgwan लोग ये कह रहे की अपना लाकर रखो.. हमारे पास इतना समय नहीं.. 
ना सफाई ना sanitization.. , एक बेड पर कोई मरता है उसी पर  बिना सफाई बिना sanitization ke दूसरे मरीज को ले आया जाता है.. जिससे उस मरीज की हालत और भी बिगड़ जा रही.. 
यहाँ तक की टॉयलेट की भी व्यवस्था नहीं, और मरीज उस हालत में नहीं की वह उठ कर toilet तक जाए.. 
एक बात समझ नहीं आई की सरकार पिछले एक साल से कर क्या रही.. चुनाव की तैयारी.. आज ये मंजर ना देखने को मिलता अगर कोरोना के दूसरे लहर के सामने आते ही पिछली बार की तरह lockdown लग जाता.. Aur सरकार ये कहती है.. जान भी जहां भी.. ये सरकार ये क्यों नहीं समझती कि जान रहेगा तभी जहां रहेगा.. 
ना सरकार sanitization करवा रही.. ना दवा की व्यवस्था.. बस एक बात, 'घर में रहे सुरछित रहे'.. पर अगर ज़बरदस्ती इलेक्शन में लोगों की duty लगाओगे तो घर में कोई कैसे रहेगा .. 
मेरे घर पर सभी कोरोना पीड़ित और सरकार की व्यवस्था यह है की कोई सरकारी अस्पताल में इंजेक्शन लगाने वाला नहीं.. Suger test करने वाला नहीं doctor घर ही नहीं आना चाहते और हम कहीं जा नहीं सकते । 
अभी तो ये कुछ भी नहीं अगर हम सब मिल कर अब सरकार के खिलाफ आवाज़ नहीं उठाएंगे तो परिस्थिति वो होगी जो सहन करने लायक नहीं होगी .. 
आज मैनें अपनी माँ को तड़पते हुए दम तोड़ते देखा है.. भगवान ना करे की किसी और को यह दिन देखना पड़े.. 
.. मैं चाहती हूँ कि सरकार की असलियत सामने लाई जाये.. और इस भयावह संकट को रोका जाये.. मुझे बस आपका साथ चाहिए.. ऐसे चुप रह कर कब तक ये भयावह मंजर देखोगे.. हमे ही कुछ करना होगा.. 
Plz मेरा साथ  दे..

0 have signed. Let’s get to 500!
At 500 signatures, this petition is more likely to be featured in recommendations!