Petition for increase insurance cover of bank deposits from 1 lakh

0 व्यक्ति ने हसताक्ष्रर गए। 100 हस्ताक्षर जुटाएं!


प्रिय पाठकों, जैसा कि आप सब जानते हैं कि आज के दौर में बैंकिंग हम सबकी जिंदगी का एक अभिन्न हिस्सा बन चुकी है। आज के समय में वित्त से संबंधित कोई भी काम हो बिना बैंक के संभव नहीं है। हर कोई अपनी बचत को बैंक में रखता है और निश्चिंत रहता है कि उसका पैसा सुरक्षित हाथों में है। पहले भारतीय बैंकों का काम ज्यादातर जमा पर आधारित था, लेकिन जब आर्थिक उदारीकरण का दौर शुरू हुआ तो देश में नए उद्योगों और इन्फ्रास्ट्रक्चर के प्रोजेक्ट शुरू हुए, जिनके लिए पैसों की जरूरत थी। तब सरकारों ने बैंकों में जमा आम आदमी की आमदनी को इस्तेमाल करना शुरू किया और बड़े पैमाने पर कर्ज बांटने लगी जो कि आज भी निरंतर जारी है। लेकिन अभी हाल ही में कुछ घटनाओं ने आम आदमी को इस चिंता में डाल दिया है कि उसकी गाढ़ी कमाई जिन बैंकों में जमा है क्या वो सुरक्षित है ? तो आपको बता दें कि आपके चाहे जितने रुपये बैंक में जमा हों, लेकिन अगर किसी कारण वश बैंक डूबता है तो आपकी सिर्फ १ लाख तक की राशि का बीमा डीआईसीजीसी देती है। मतलब आपका सिर्फ १ लाख सुरक्षित है। ये नियम १९९३ से लागू है , जिसे हमारी सरकारों ने दोबारा बदलने की जरूरत नहीं समझी। लेकिन अब वक्त है कि हम खुद अपनी मेहनत की कमाई बचाने के लिए आवाज उठाएं और सरकार से अनुरोध करें कि १९९३ के बाद जिस हिसाब से मंहगाई बढ़ी है उसी अनुपात में हमारी जमा राशियों का बीमा भी बढ़ाया जाए। इस पेटीशन में आप सबका सहयोग अपेक्षित है। धन्यवाद।