year back system in uttrakhand technical university

0 व्यक्ति ने हसताक्ष्रर गए। 100 हस्ताक्षर जुटाएं!


उत्तराखंड तकनीकी विश्वविद्यालय, देहरादून द्वारा सेमस्टर के अंतिम समय में जब सभी छात्र परीक्षाओं की तैयारियों में व्यस्त हैं, एक फरमान जारी किया है जिसके मुताबिक किसी भी वर्ष में यदि किसी विद्यार्थी की 4+1 से अधिक बैक होती है तो उसे इस वर्ष परीक्षा में बैठने से वंचित किया जा रहा है। साथ ही ऐसे विद्यार्थियों को Year Back की स्थिति में लाकर खड़ा कर दिया है। यह सब 17/08/2011 के एक नोटिस के बलबूते पर किया जा रहा है, जिस नोटिस का B.Tech में आज तक कभी पालन ही नहीं किया गया।
ऐसे नोटिस को दुबारा संज्ञान में लाने का विश्वविद्यालय का क्या प्रयोजन है यह सोचने योग्य विषय है, वो भी सेमेस्टर के अंतिम समय में।
इस नोटिस के चलते अंतिम वर्ष B.Tech के छात्र अत्यधिक परेशानी में है। अंतिम वर्ष में छात्र अपने प्लेसमेंट की तैयारी करते हैं और विश्वविद्यालय ईयर बैक लगाने पर तुला हुआ है, वो भी एक ऐसे नोटिस के अनुसार जिसका आज तक कभी पालन ही नहीं किया गया। तो ऐसे नोटिस को अचानक से लाने का क्या प्रयोजन हो सकता है?
इसके खिलाफ Amrapali Institute, Haldwani के छात्र विरोध पर उतरे हुए है, छात्रों के भविष्य अंधियारे में घिरते हुए नजर आ रहे हैं।
यदि विश्वविद्यालय द्वारा शीघ्र ही इस नोटिस पर विचार नहीं किया गया तो छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ के अलावा विश्वविद्यालय को इससे अधिक कुछ हासिल नहीं होगा।

 

If this have been started, then they should start it from the upcoming batches. The batches who are relaxed as per utu norms should be relaxed now. From upcoming batches the notice should be followed.

As said by university the notice is of 2012. The question arises if notice is of 2012 so why student does not got year back in 1st yr ,2nd yr of their b.tech when they got failed in more than 4 subject ?

If they have relaxes the batch in past then they have to relax the batch in present too..

The notice comes from utu in the end of semester, students are in a dillema that they have to study or not ? What will be the utu decision ?