जागरूक बनें शिशुओं को कैफीन वाली चीजों से बचाएँ

0 व्यक्ति ने हसताकषर गये। 500 हसताकषर जुटाएं!


प्रति

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मन्त्रालय,

भारत सरकार

हमारे देश में चाय पीने का प्रचलन है।अधिकांश लोग दिन की शुरूआत ही चाय पी कर करते हैं।वैसे तो चाय पीने के कई नुकसान हैं फिर भी चाय पीने की आदत लोगों में होती है और इसी आदत को हम हमारी आने वाली पीढी को भी अपनाने को कहते हैं या तर्क देते हैं कि इससे कोई नुकसान है ही नहीं।मुझे दुःख है कि हमारे देश में गाँवों,छोटे शहरों में और कई पढे लिखे लोगों के घरों में नवजात शिशुओं को चाय पिलाई जाती है।इसका बहुत बुरा असर उनकी सेहत पर होता है।

इस  प्रकार शिशुओं को चाय पिलाने के विषय में जब मैंने डाॅ. कृष्ण प्रसाद जे आर,(एम बी बी एस,एम आर सी पी एच)से बात की।उनके अनुसार "शिशुओं को कैफीन और कैफीन मिले हुए किसी भी पेय पदार्थ देने से हायपर एसिडिटी और हार्ट पर भी बुरा असर पड़ता है।"कई पोषण विशेषज्ञों ने भी इसी प्रकार की राय दी।

अतः मेरी स्वास्थ्य मन्त्रालय व सभी स्वास्थ्य विभागों से अपील है कि "कैफीन वाले पेय पदार्थ  शिशुओं के लिए हानिकारक हैं" इस संदेश को देश में सभी गाँवों,शहरों में अखबार,टी वी,रेडियो,एफ एम पर एड के माध्यम से अधिकाधिक प्रचारित किया जिससे हमारी भावी पीढी़ सेहतमंद बने।

धन्यवाद

निधि जोशी