समाजिक स्थलों पर नमाज बंद हो

0 व्यक्ति ने साइन किए। 100 हस्ताक्षर जुटाएं!


धर्म के पालन की स्वंतंत्रता हमे भारतिय संविधान देता है पर इसका मतलब यह नही है कि हम उस स्वंतंत्रता के आड़ में जनता को परेशान करे।

हर धर्म ने अपने ईस्वर के आराधना करने के लिये जगह निश्चित किया है और उनकी आराधना वही होनी चाहिए। हिन्दू मंदिर में जाते है, मुस्लिम ने मस्जिद बनाई, सिखों  ने गुरद्वारा ईसाई ने गिरजाघर। तो आखिर क्यों मुस्लिम समाज सामाजिक स्थानों पर  नमाज पढ़ने के नाम पर रास्ता रोकते है,प्लेटफार्म कब्जा करते है, पार्क को घेर देते है। यह बन्द होना चाहिए।

रास्ता हो या पार्क हो या रेलवे प्लेटफार्म हो, चलती रेल का कोच हो या अन्य कोई समाजिक स्थल हो सब किसी खास उद्देश्य के लिये बनाया जाता है ।उसका उपयोग सारी जनता करती है और देश समाज हित मे उसकी उपयोगिता होती है। नमाज पढ़ने के लिये यह जगह नही बनाई गई है। नमाज पढ़ने के लिये जब आप इसको अवरुद्ध करते है तो आम जनता को परेशानी होती है। क्या आल्हा कहता है कि आप उसकी इबादत दुसरो को परेशान करके करे। कभी नही।

नमाज, आप मस्जिद में पढ़े, अपने घर मे पढ़े पर सामाजिक स्थान को नमाज की जगह न बनाये। 

देश हित और समाज हित मे नमाज समाजिक स्थलों पर पढ़ना बंद करे।।

मैं चाहता हूं कि आप सभी देश वासी इस पेटिशन को सिग्न करे और इसे देश की आवाज बनाये ताकि सरकार यह कानून बनाये और सारे देश मे इसे लागू करे