पुरानी पेन्शन की बहाली

0 व्यक्ति ने हसताकषर गये। 200 हसताकषर जुटाएं!


बड़ा ही दुःख का विषय है, भारत के माननीय सांसदों ने अपनी पेंशन बरकरार रखते हुए अर्धसैनिक बलों की पेंशन बन्द कर दी थी, आज शहीद हुए 40 जवान जो NPS के दायरे मे थे उनकी विधवाओं को इस बलिदान के बदले जीवन यापन के लिए कोई पेंशन नही मिलेगी, जबकि नव नियुक्त विधायक के दिवंगत होने पर उसके परिवार को मिलेगी।
इस प्रकार के अत्याचारिक निर्णय देने वाले माननीय सांसदों को क्या भारत में सचमुच महान वीरता पुरस्कारों से सम्मानित करना चाहिए??
इस प्रकरण पर 15 वर्ष से आंख मुदने वाली सरकारें क्या शासन के लायक है????
ज़रा सोचिए ! महोदय अगर आँखों मे पानी हो तो कम से कम सभी सैनिको की ही पुरानी पेंशन बहाल कर दीजिए।