याचिका बंद हो गई

कागज बचाओ, पर्यावरण बचाओ

यह मुद्दा 55 हस्ताक्षर जुट गये


सेवा में,

           मा• प्रधानमंत्री महोदय

                भारत सरकार

श्री मान जी आपके द्वारा पर्यावरण को बचाने के लिये राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अनेकों प्रयास किये जा रहें जो कि सम्पूर्ण समाज के लिए बहुत ही उपयोगी है, तथा आपका कार्य बहुत ही प्रसंशनीय है। विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों द्वारा वृक्षारोपण के विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम चलाये जाने से पर्यावरण का बिगड़ता संतुलन कुछ हद तक फिर से सुधरने लगा है। 

महोदय अभी भी समाज में वृक्षों के दोहन की दर वृक्षारोपण से कहीं ज्यादा है जिसका एक मुख्य कारण "कागज" भी है। प्राथमिक शिक्षा से लेकर उच्चतर शिक्षा तक की समस्त किताबें हर साल छपती हैं और उनका हर साल दोहन भी हो जाता है। विशेषकर प्राथमिक शिक्षा में बालकों के लिए हर वर्ष किताबें छपती है जो कि छोटे बालकों के द्वारा नष्ट कर दी जाती है। 

अतः श्री मान जी से विनम्र निवेदन है कि किताबों के पन्नों की गुणवत्ता को सुधार कर अच्छी किताबें बनाई जाए और उन्हें हर वर्ष सत्र की पूर्ति पर एक क्षेत्रीय वाचनालय बनाकर वहां जमा कर लिया जाए जिससे की आने वाली पीढ़ी उन्हें फिर से पढ़ सके। इससे प्रकृति का तथा धन का दोहन भी रुकेगा तथा सरकारी प्राथमिक विद्यालयों में पढ़ रहे बच्चे जो कि सर्वशिक्षा के अभियान के तहत मुफ्त किताबें पाते है वह भी उसकी महत्ता समझेंगे।

 

 



आज — Naveen आप पर भरोसा कर रहे हैं

Naveen Tripathi से "भारत सरकार: कागज बचाओ, पर्यावरण बचाओ" के साथ आपकी सहायता की आवश्यकता है। Naveen और 54 और समर्थक आज से जुड़ें।