आबादी। भारत की समस्याओं की जननी

0 व्यक्ति ने हसताकषर गये। 100 हसताकषर जुटाएं!


आज भारत की जनसंख्या १३५ करोड़ हे और देश की कोई भी  राजनीतिक पार्टी इस विकराल समस्या पर  गंभीरता से न तो विचार करती और न ही विचार करना चाहते हैं और निश्चय ही इसका एकमात्र कारण राजनीतिक नफा नुकसान का गणित है, राजनीतिक दलों का वोट बैंक सुरक्षित रहना चाहिए देश का क्या है  जनता जब दुशपरिणाम भुगतेगी तो अपने हिसाब से हल करेगी, लेकिन अब समय आगया है कि हम बढती आबादी की समस्या पर देशहित में जरुरी गंभीरता से विचार करे और योजनानुसार आबादी पर नियंत्रण करने की आवश्यक कार्यवाही करें



आज — अरुण आप पर भरोसा कर रहे हैं

अरुण कुसुमवाल से "भारत के आम जन: आबादी। भारत की समस्याओं की जननी" के साथ आपकी सहायता की आवश्यकता है। अरुण और 29 और समर्थक आज से जुड़ें।