Should political parties must come under RTI

Should political parties must come under RTI

0 व्यक्ति ने साइन किए। 100 हस्ताक्षर जुटाएं!


राजनैतिक दलों को आर टी आई मे आना क्यों जरूरी है

राजनैतिक दल स्वयं को आर टी आई से बाहर बनाये हुए हैं जबकि 3 जून 2013 को केंद्रीय सूचना आयोग के आदेशानुसार उन्हें तभी आर टी आई के दायरे मे आ जाना चाहिए था।

अगर राजनैतिक दल आर टी आई के दायरे मे आते हैं तो उन्हें देशी,विदेशी हर प्रकार के मिलने वाले चंदों का हिसाब आम जनता को देना होगा,चुनावों में उन्हें टिकट वितरण का आधार बताना होगा,कैसे कोई धनबली,बाहुबली एक दिन पहले पार्टी मे आता है और उसे टिकट मिल जाता है जबकि उसी दल का कार्यकर्ता कई वर्षों तक पार्टी का झंडा ढोता है परंतु उसको टिकट नहीं दिया जाता है।

राजनैतिक दलों के अंदर व्याप्त भ्रष्टाचार ही देश को खोखला करता जा रहा है,जो राजनैतिक दल जनता के सामने एक दूसरे के प्रबल विरोधी हैं,वो संसद मे चुपके से मिलकर विदेशी चंदों का कानून पास करा लेते हैं जिससे उन्हें विदेशी चंदों का हिसाब अब किसी को नहीं देना पड़ेगा।

राजनैतिक दल स्वयं सभी सरकारी सुविधाओं का लाभ उठाते हैं परंतु आर टी आई के दायरे मे आने के नाम पर भाग खड़े होते हैं।

आर टी आई ही इन राजनैतिक दलों पर असली नकेल लगायेगी,आप सभी को पता है कि यह देशहित मे अत्यंत आवश्यक है ,कृपया समर्थन करें तथा शेयर करें

धन्यवाद

जुड़ने के लिए संपर्क करें

ई०राहुल सिंह

राष्ट्रीय अध्यक्ष

क्रांति फाउंडेशन

9935776310,6392702936