चोरी हुआ मोबाइल पे सख्त करवाई हो

0 व्यक्ति ने हसताकषर गये। 500 हसताकषर जुटाएं!


एक आम आदमी मेहनत कर के पैसे कमाता है। उनसे घर का और अपना खर्चा निकलता है। आज अगर कोई आदमी फोन खरीदता है तो उसको संभाल रखता है क्योंकि वो उसने अपनी मेहनत से खरीदा है।

किन्तु आजकल मोबाइल चोरी की घटनाएं बढ़ गई है। और उनकी जिम्मेदारी लेने वाला कोई नहीं है। अगर आप पुलिस के पास जाओ तो वो आपको ही अपने मोबाइल चोरी होने के लिए जिम्मेदार बता के अपना पल्ला झाड़ लेंगे।

जो पुलिस हमारी सेवा के लिए है वो हमसे ही खराब आचरण करते है। किसी तरीके से वो मोबाइल चोरी की रिपोर्ट तो लिख लेते है पर उसपे कोई करवाई नई करते।

मेरा मोबाइल मुनिरका, दिल्ली रेड लाइट पे बस में चोरी हुआ था। और उसके १ घंटे बाद एक ओर आदमी का मोबाइल चोरी हुआ। हम जब इसकी रिपोर्ट लिखाने किशनगढ़ पुलिस स्टेशन गए तो पुलिस ने हमसे बत्मिजी से बात की। और कहा के इसकी जांच होंगी और इस बारे मै हमें २ दिन बाद बताया जाएगा। परन्तु ऐसा कुछ ना हुआ।

अगर किसी नेता का मोबाइल चोरी हुआ होता तो उसे सर्विलांस पे रखते और पता लगा लेते। पर आम जनता को आज तक अपना मोबाइल ना मिला। आज तक मेरे २ मोबाइल ऐसे चोरी हो चुके है। और ऐसे लाखों CASES हैं जो बढ़ते जा रहे है किन्तु पुलिस का रवैया बिल्कुल ना बदला।

इसके उपाय:

१. सबसे पहले पुलिस अपना आचरण आम लोगों के लिए सही करे।

२. जिन जगह में मोबाइल चोरी की घटनाएं हुई हो वहां पुलिस गश्त मारती रहे।

३. चोरी हुए मोबाइल को ढूंडने का काम जल्द से जल्द शुरू करे। ना कि पीड़ित को अनर्गल बातें बोल के उसका समय बर्बाद करें।

४. चोरी हुए मोबाइल के ऊपर अब तक क्या करवाई हुई है और अब स्तिथि क्या है इस बारे में पीड़ित को बताया जाए। इसके लिए पीड़ित को ऑनलाइन FIR स्तिथि देखने और सही करवाई ना होने पर उचित कदम उठाने का विकल्प हो।

५ अगर पुलिस कोई कार्रवाई ना करे तो उस पुलिस स्टेशन के इंस्पेक्टर के खिलाफ सख्त कदम उठाए जाएं।

६. पुलिस अपने राज्य की वेबसाइट को दुरुस्त करे।

अगर मेरी ये पेटिशन अगर कामयाब हो गई तो मोबाइल चोरी की घटनाएं घटेंगी और आप का पैसा खराब नहीं होगा। इससे पुलिस को दूसरी घटनाओं को काबू करने में एक अच्छी सीख भी मिलेगी।