Petition Regarding Direct Multipoint Connection

0 व्यक्ति ने साइन किए। 500 हस्ताक्षर जुटाएं!


माननीय उत्तरप्रदेश बिजली नियामक बोर्ड की जनसुनवाई मीटिंग जो कि दिनांक 17 दिसंबर 2018 हुई उसमैं हमारे डायरैक्ट बिजली कनेक्शन के स्वयंसेवी कार्यकर्ताओं ने निम्नलिखित मुद्दों पर जानकारी ली

  • 1. सर्वप्रथम ये बताया गया कि किसी भी सोसायटी मैं मैन्टीनैंस मीटर से काटना गैरकानूनी है व अगर ऐसा हो रहा है तो वो गलत है
  • 2. वैंडिंग चार्जेस मल्टीप्वांइट कनेक्शन मैं लागू नहीं होंगे जैसा कि अभी हाल फिलहाल ग्रेनो वैस्ट की कई सोसायटियों मैं लिया जा रहा है।
  • 3. इन्फ्रास्ट्रक्चर की लागत व मोडिफिकेशन की लागत के बारे मैं पूछने पर बताया गया कि इन्फ्रास्ट्रक्चर लागत एक बार लगने वाली लागत है जिसमैं सारा सैट लगाया जाता है जबकि मोडिफिकेशन लागत सोसाइटी वाइज अलग अलग होगी जैसा कि हमको मीडिया कनैक्ट की 8 दिसम्बर को हुई मींटिंग मैं एनसीपील से तरूण चौहान जी ने भी बताया था कि अगर डीजी के लिए अलग लाईन नहीं डालनी होगी तो अतिरिक्त कुछ भी खर्चा नहीं आयेगा। व मोडिफिकेशन की लागत एक थम्बरूल के अनुसार इन्फ्रास्ट्रक्चर लागत जो कि हम पहले दे चुके हैं की 5% से 7% से ज्यादा नहीं होगी।
  • 4. मैन्टीनैंस सर्विसेस का मीटर अलग होगा जिसका डायरैक्ट कनैक्शन से कोई संबंध नहीं होगा तथा पहला HT मीटर ही Reference मीटर की तरह ही उपयोग में लिया जाएगा. ये भी बताया गया कि HT व LT लाईन में ही चेंज किया जाएगा।
  • 5. DG Set की लागत के लिए कोई भी अलग से खर्च करने की जरूरत नहीं है जबकि ये लागत पहले ही इन्फ्रास्ट्रक्चर लागत मैं दी जा चुकी है।
  • 6. बिजली का बिल यूनिट स्लैब रेट के हिसाब से आयेगा जो कि पहले से कम होगा।

अंत मैं लागत Rs. 50000 या 100000 के बीच मैं जैसा कि अफवाह है, तो हम इस पिटीशन के द्वारा ये मांग रखना चाहते हैं कि एक विस्तृत आडिट उन सभी खर्चों का जो कि हम सभी ग्राहक पहले एनपीसील को बिल्डर के माध्यम से दे चुके हैं, एक स्वतंत्र आडिट संस्था जो कि माननीय UPERC द्वारा नियुक्त की जाए, के माध्यम से कराया जाए। ये सभी जागरूक ग्राहकौं के लिए अति आवश्यक होगा।

 

 

Manish Kumar Awasthi      ANSH                     

(9911609158)                    (9891809820)      

   Ankush                           Amitesh

  (9716671347)         (7045644906)