जनताके टेक्षके रुपियोका दुरुपयोग रुकना चाहिए

0 व्यक्ति ने हसताकषर गये। 100 हसताकषर जुटाएं!


मुख्य चुनाव  आयुक्त , 

दिल्ली

नमस्ते।  

हमारे देशमें धारासभा और लोकसभाके चुनाव पाँच सालके लिए होते है।इसका मतलब है की चुनाव आयोग पाँच सालके लिए एकबार जनताके टेक्षके पैसेमेंसे चुनावी ख़र्च करता है।पांच सालके लिए चुना गया MLA/MP पांच साल पुरे होनेसे पहले  क़ुदरती निधन या आकस्मिक विकलांगताके अलावा इस्तीफ़ा देता है तो चुनाव आयोगने उस सीटके लिए जो चुनावी ख़र्च जनताके टेक्षके पैसोसे किया था वो इस्तीफ़ा देनेवाले MLA/MP के पाससे वसूलना चाहिए। क्यूँकि उसके कारण पांच सालके पहले फिरसे चुनावी ख़र्च करना पड़ता है। और छ महिनेके भीतर वो ही इन्सान फिरसे चुनाव लड़ता है तो नए चुनावका ख़र्चा भी उससे ही वसूलना चाहिए। 

ये इसलिए होना चाहिएकी मतदाताके विश्वासके साथ धोखा होता है और मतदाताके टेक्षके पैसोका दुरुपयोग होता है ,जिसमें मतदाताकी कोइभी ग़लती नहीं होती है। लोकशाहीमें लोगोका हित सर्वोपरी होना चाहिए। 

जय हिंद।