NO SCHOOL - NO FEES जमनापार अभिभावक संघ दिल्ली

NO SCHOOL - NO FEES जमनापार अभिभावक संघ दिल्ली

0 व्यक्ति ने साइन किए। 1,000 हस्ताक्षर जुटाएं!
1,000 साइन के बाद इस पेटीशन को लोकप्रिय पेटीशनों में फीचर किए जाने की संभावना बढ़ सकेगी!
Virag Jain ने अरविन्द केजरीवाल को संबोधित करके ये पेटीशन शुरू किया

महामारी कोरोना संकटकाल मे हमने दिल्ली सरकार से अभिभावकों को स्कूलों की फीस मे छूट के लिए निरंतर अपील एवं माँग की जिसके लिए मुख्यमंत्री जी को ऑनलाइन पत्राचार भी किया जिसके परिणाम स्वरुप सरकार ने स्कूलों से केवल ट्यूशन फीस लेने के आदेश किये.लेकिन आर्थिक तंगी के कारण अधिकतर अभिभावक ट्यूशन फीस भरने मे भी असमर्थ है इसलिए हमने सरकार से फीस समाप्त के लिए NO SCHOOL - NO FEES अभियान चला रखा है जिस अभियान मे अभिभावकों द्वारा जुड़ कर जोरदार सहयोग मिल रहा है और वही स्कूल द्वारा फीस लेने के लिए स्कूल प्रशासन का सरकार पर दवाब पड़ना शुरू हो गया है जिस दवाब के कारण दिल्ली सरकार 1जुलाई से स्कूल खोलने की तैयारी कर रही हैजबकि दिल्ली मे कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से फैल रहा है ऐसे मे स्कूल बस से कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा और बढ़ेगा, स्कूल टीचर, आया, चपरासी, बस ड्राइवर, कंडक्टर, गार्ड इनमे कोरोना हुआ तो बच्चों मे कोरोना कितनी तेजी से फैलेगा कल्पना करना मुश्किल है और एक क्लास में 50 - 60 बच्चों मे 2 गज की दूरी बनाए रखना असंभव है और ना बच्चे इस दूरी का 8-9 घंटे पालन कर पाऐंगे, ज्यादा समय मास्क पहनने से शरीर में ऑक्सीजन की कमी होना और बच्चों की प्रतिरोधक क्षमता वैसे भी कम होती है जिससे उनमे कोरोना फैलने का खतरा और बढ़ जायेगा. बच्चों का बार -बार मास्क उतरना, फिर इसको पहनना, लंच के समय मास्क हटाना, उसके बाद हाथ सैनिटाइजर से या साबुन से कितनी देर तक धोना ये सब मासूमो से संभव नही हो पायेगा.

इसलिए हमारी दिल्ली सरकार से माँग है जब तक कोरोना को लेकर कोई ठोस ईलाज या वैक्सीन नही मिल जाती जब तक स्कूल ना खोले जाये एवं सभी अभिभावकों से भी अपील है अपने बच्चों को कोरोना से बचाने के लिए अपने मासूमों को स्कूल भेजने की जल्दी ना करे और हमारी मुहीम का समर्थन करे.
धन्यवाद
---------------------------------
जमनापार अभिभावक संघ दिल्ली
अध्यक्ष : विराग जैन 
कानूनी सलाहकार : एडवोकेट एम. के. शर्मा
☎️ 9818906455, 9643456151

0 व्यक्ति ने साइन किए। 1,000 हस्ताक्षर जुटाएं!
1,000 साइन के बाद इस पेटीशन को लोकप्रिय पेटीशनों में फीचर किए जाने की संभावना बढ़ सकेगी!